Jul 27, 2019

बचत कैसे करें | How to Save Money in Hindi

Leave a Comment
How to Save Money in Hindi:बचत कैसे करें ? इसे जाननें से पहले आपको ये जानना जरुरी है कि पैसों की जरुरत हमें हर वक्त होती है | पैसों के बिना हम दैनिक जरुरत की समान भी खरीद नही सकते है | इसलिए आपको पहले से तैयार होना जरुरी है |

How to save money in hindi

आप बचत करके अपने भविष्य के लिए पैसें इक्कठे करते है | लेकिन बचत करने से पहले आपको दो चीज समझनी है - पहला आपकी जरूरत | दूसरा आपकी इच्छाओं को | क्योकिं बचत का बीज इन्ही दोनों के बीच में बोया जाता है |

How to Save Money

आज मैं आपको एक तरीकें के बारे में बताऊंगा जो आपको पैसें बचाने में मदद करेगी, और आपको इसके लिए ज्यादा कुछ करने कि जरूरत भी नही होगी | यह तरीका बहुत ही प्रभावशाली है, अगर आपने इसे अपना लिया तो आप आसानी से बचत करनें कि आदत व अनुशासन बना लेंगे |

एक गाँव में एक लड़की रहती थी, जो रोजाना अपने परिवार के लिए खाना बनाती थी | लड़की खाना बहुत मस्त बनाती थी | सब घरवाले उसकी तारीफ़ करते नही थकते थे|

लड़की होशियार भी थी | वह जानती थी कि कभी-कभी घर में चावल की कमी हो जाती है, इसलिए वह जब सभी के लिए खाना बनाती तो थोड़ा सा चावल, सभी के खुराक वाले बर्तन से निकालकर अलग बर्तन में रख देती थी |

और इससे परिवार वालों को कोई फर्क भी नहीं पड़ता था | वे रोजाना भर पेट खाना खाते थे | पर रोज थोड़ा सा चावल निकाल करके रखने से वह लड़की महीनें में दो किलो चावल बचा लेती थी | जो उसके परिवार के लिए दो दिन का खुराक था |

टिप:  इसी प्रकार अगर आप भी उस लड़की की तरह रोजाना अपनें खर्चों से 10 रूपये भी बचाते है तो आप एक महीने में लगभग 300 रूपये बचा लेंगे | आप 10 रूपये को आपकी इच्छानुसार बढ़ा सकते है | इस तरीके से आप जितना चाहें उतना बचा सकते है | आपको इसका पता भी नही चलेगा की आप बचत भी करते है | और आपके पास बहुत सारे पैसे इक्कठे हो जायेंगे |


अंतिम: अगर आप गैर-जरुरी चीजों पर खर्च न करके, उन पैसों कि बचत करते है तो एक समय ऐसा आएगा जब आपके पास बहुत सारें पैसें होंगे | लेकिन बचत करने के बाद आपको उन पैसों को निवेश करना होगा, जिससें पैसें भी आप के लिए कमाना शुरू कर देंगे | और इससे आपके पास आय के दो सोर्स (  स्त्रोत ) हो जायेंगे |
Read More

Jul 20, 2019

पॉवर ऑफ़ कंपाउंडिंग क्या है | Power Of Compounding in Hindi

पॉवर ऑफ़ कंपाउंडिंग ( Power Of Compounding ) जिसे दुनिया का आठवां अजूबा कहा जाता है | आज सब कोई ये नही जानते है कि हम पॉवर ऑफ़ कंपाउंडिंग ( Power Of Compounding ) का प्रयोग करके कैसे अपने जीवन में सफलता की ओर आगे बढ़ सकते है?

Power Of Compounding in Hindi


Power Of Compounding

पॉवर ऑफ़ कंपाउंडिंग ( Power Of Compounding ) के बारे में दुनिया के महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइन्स्टीन ने कहा: "Compound interest या चक्रवृधी व्याज दुनिया का आठवां अजूबा है, जो इसे समझता है, वो कमाता (Earn) है, और जो इसे नहीं समझता वह भरता (Pay) है"

कोई भी इन्सान चाहे वह कितना ही साधारण क्यों न हो पॉवर ऑफ़ कंपाउंडिंग ( Power Of Compounding ) का प्रयोग करके सफल हो सकता है | आप भी इसे अपने जीवन में अप्लाई (प्रयोग ) करके निश्चित ही सफल हो सकते है |

उदहारण से समझे -

राम, श्याम और मोहन तीन दोस्त थे, तीनो ने एक साथ एक ही कम्पनी में काम की शुरुवात की थी | सभी 9 बजे ऑफिस काम पर जाते थे ?

राम को पॉवर ऑफ़ कंपाउंडिंग के बारे में जानकारी थी इसलिए वह रोज सुबह जल्दी उठ कर योग व सेल्फ इम्प्रोविंग किताबें पढ़ता था, और ऑफिस में थोड़ी सी ज्यादा काम करता थे इसलिए कभी कभी उसे लेट भी हो जाता था |

श्याम वक्त का पाबंद था, वह रोज सुबह 7 बजे उठता था फिर तैयार होकर ऑफिस निकल जाता था | ऑफिस का काम 5 बजे समाप्त करके वह घर आ जाता था |

जबकि मोहन रोज सुबह 8 बजे उठता था और फिर जल्दी जल्दी तैयार होकर काम पर निकल जाता है लेकिन ऑफिस में भी उसका मन काम पर नही लगता और वह काम समाप्त होने से पहले ही ऑफिस से निकल जाता था |

एक साल बाद जब तीनों के काम को जांचा परखा गया तो निरीक्षक ने पाया की राम ने अपने ऑफिस में सबसे अच्छा काम किया है, उसे प्रमोट करके मैनेजर बना दिया और उसकी तनख्वाह भी बढ़ा दी गयी |

जबकि श्याम वक्त का पाबंद था इसलिए उसका काम भी ठीक था उसकीं तनख्वाह में थोड़ी सी वृद्धि हुई |

लेकिन जब मोहन के कामों की जांच परख की गई तो पाया की उसने सालभर में बहुत काम किया है और ऑफिस में सबसे कम काम करने वाले के लिस्ट में उसका नाम पहले स्थान पर है इसलिए उसे कंपनी से निकाल दिया गया |

इस तरह एक ही कंपनी में एक साथ काम करने वाले तीन दोस्तों को पॉवर ऑफ़ कंपाउंडिंग का अलग अलग परिणाम मिला |

जिसने पॉवर ऑफ़ कंपाउंडिंग को समझा उसने कमाया , जिसने इसे नही समझा उसने खोया |

आप भी अपने जीवन में पॉवर ऑफ़ कंपाउंडिंग सही तरीके से करे और राम की तरह बने |

क्योंकि "बूंद-बूंद से ही घड़ा भरता है "  चाहे वह सफलता का हो या फिर असफलता का |
Read More

Jul 15, 2019

सबसे अच्छा इन्वेस्टमेंट ऑप्शन | Best Investment Options in Hindi

क्या आप जानते है? Best Investment Options/Plans कौन सा है ? आज इस पोस्ट में आपके सारे सवालो के मिलने वाले है तो इसे लास्ट तक जरुर पढ़े |

अलग- अलग लोग अलग- अलग चीजों में इन्वेस्ट करते है क्योंकि सभी लोगों का पसंद अलग अलग होता है | किसी को खाना अच्छा लगता है , किसी को गाना अच्छा लगता है | इसी प्रकार किसी सोना पसंद है तो किसी म्यूच्यूअल फण्ड या स्टॉक मार्किट इन्वेस्ट न करके रोना पसंद है | सबकी चॉइस अलग है | इश्वर ने सबको बनाया ही ऐसा है |

Best Investment Options in Hindi


मैं बेस्ट इन्वेस्टमेंट के बारे में बताने के बजाय खाना, गाना , सोना और रोना क्यों रो रहा हूँ | 

आपको ये बताना जरुरी था कि सब के पास अच्छे आप्शन होते है, लेकिन लोगों का पसंद ही ऐसा है कि वें रिस्क व ज्ञान लेते ही नही है |

चलो भी अब पकाना बंद करो और बताओ कि रिटर्न किसमें ज्यादा मिलता है | कुछ ऐसा ही तो नही सोच रहे न |
तो चलो फिर best investment plans के बारे में बता ही देता हूँ |

Best Investment Options/Plans in Hindi

इन्वेस्टमेन्ट आप्शन बहुत सारे है लेकिन मैंने जो जिक्र किया है (रिस्क, ज्ञान , व रिटर्न ) के आधार पर लोग अलग अलग आप्शन में इन्वेस्ट करते है |


फिक्स्ड डिपाजिट: सबसे आसन तरीका इन्वेस्ट करने का | बस बैंक में जाकर बोल दो "सर फिक्स्ड डिपाजिट " करना है | उसके बाद आपको 7 - 8 % का रिटर्न तो पक्का मिल जायेगा, लेकिन एक सीक्रेट बात बताता हूँ महंगाई दर 3% - 4% से बढ़ता है | महंगाई दर आपको दिखाई नही देगी लेकिन खा पूरा जाएगी | आपके पैसे की वैल्यू | और फिक्स्ड डिपाजिट के ब्याज दर में महंगाई दर घटा दो फिर जो बचेगा वो तुम्हारा |

रियल एस्टेट: जमींन जायदाद बोलते है शायद इसे | 8% - 9% तो रिटर्न दे देती है यह भी | लेकिन सोच समझ के खरीदना कमर्शियल एरिया व रेजिडेंशियल एरिया के हिसाब से मिलता है रिटर्न |

गोल्ड : आपको सोना है या आपको सोना चाहिए | लिखलो किसी कागज में वरना खो जाओगे सपने में | सोना 11% - 12% का रिटर्न देती है और सोना आभूषण तो है ही |

म्यूच्यूअल फंड:  फेसबुक में म्यूच्यूअल फ्रेंड और लाइफ में म्यूच्यूअल  फण्ड बहुत ही जरुरी  है | रिस्क जो कम हो जाता है | टेंशन ख़तम हो जाता है | कम रिटर्न व कम दोस्त होने का | म्यूच्यूअल फंड  15% - 16% का रिटर्न दे देता है | जो कि कम नही है | इससे आप स्टॉक मार्किट में भी पैसा लगा सकते हो | बिना किसी पढ़ाई व रिसेअर्च के | लेकिन थोड़े से रिस्की होते है ये म्यूच्यूअल फंड, पर आप फण्ड मैनेजर को बता कर रिस्क कम कर सकते  है | बहुत आप्शन है इसमें |

स्टॉक मार्केट: मैं न इसके बारे में बताने वाला ही नही था | क्योंकि बहुत से लोग सुनके ही डर जाते है | इसलिए मैंने इसको लास्ट में रखा है| इसमें रिटर्न ज्यादा मिलता है | 20% मिलता है | कई लोग तो रगड़ के बिज़नस का रिसर्च करने के बाद 35% तक ले आते है | रिटर्न | हैं न बहुत रिस्की | रिटर्न लाना | लेकिन 20% रिटर्न लाना भी बहुत संतोषजनक है | लम्बे समय में शेयर बाजार 100X (आपका पैसा 100 गुना  ) का रिटर्न भी दे सकती है

अब मेरा काम पूरा हो गया है, अब आपकी बारी है | ज्ञान बढ़ा के रिस्क कम | रिटर्न ज्यादा करने की| रुको एक बार और ज्ञान बढ़ा के रिस्क कम | रिटर्न ज्यादा करने की |
Read More

Jul 10, 2019

शेयर बाजार और म्युचुअल फंड | Stock Market Vs Mutual Funds in Hindi

शेयर बाजार और म्युचुअल फंड में बेहतर कौन है ? क्या Stock Market में इनवेस्ट करने से Mutual Funds से ज्यादा रिटर्न मिलता है ? अगर आपके मन में भी यह सवाल आता है तो आज मैं आपको इन सारे सवालों के जवाब दे रहा हूँ |

Stock Market Vs Mutual Funds in Hindi


चाहे आप stocks में इन्वेस्ट करना चाहते हो या mutual funds में, इसके लिए आपको तीन फैक्टर्स को समझना होगा |

पहला, आप कितना रिटर्न चाहते है ? क्या आप हाई रिटर्न के लिए हाई रिस्क लेने के लिए तैयार है?

दूसरा, आप फाइनेंसियल रिसर्च और स्टडी करना कितना पसंद करते है और इसके लिए आप कितना समय दे सकते हैं ?

तीसरा, आप कितना फीस, टैक्स आदि देने को तैयार है ?

Stock Market Vs Mutual Funds

जब आप share खरीदते है, इसका मतलब आप एक कंपनी का कुछ पार्ट खरीदते है, जिससे आपको दो तरह से लाभ होता है | पहला, जब कम्पनी प्रॉफिट करती है तो वह आपको प्रॉफिट का कुछ भाग shareholders में बाँट देती है | दूसरा, जब आप किसी कम्पनी को कम दाम में खरीदते है और जब कम्पनी के शेयर का दाम बढ़ता हैं और जब आप उसे बेच देते है तो उससे भी आपको लाभ होता है |


mutual funds डाइवर्सिफाइड होता है, डाइवर्सिफाइड का मतलब है, जब आप अपना पैसा लगाते है तो यह स्टॉक्स, बांड, फिक्स्ड डिपाजिट, गोल्ड आदि में लगता है, इन सबमें एसेट मैनेजमेंट कंपनियों के फंड मैनेजर रिसर्च करके आपके दिए गये पैसे को लगाता है, लेकिन रिसर्च करने में फंड मैनेजर को भी समय व एनर्जी दोनों लगता हैं | 

जब आप mutual funds में इन्वेस्ट करते है तो आपको mutual fund unit मिलता है जिसके दाम (NAV) नेट एसेट वैल्यू घटते बढ़ते है |

जब आप शेयर खरीदते है तो यह स्टॉक मार्केट में डायरेक्ट इन्वेस्टमेन्ट होता है इसलिए इससें ज्यादा रिटर्न मिलने के सम्भावना होती है, शेयर से आप 18% से 25% मिनिमम रिटर्न की उम्मीद कर सकते है, लेकिन इसके लिए आपको खुद से रिसर्च व स्टडी करनी पड़ती है, और आपका काफ़ी एनर्जी व समय लगता है |

स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट करने का इनडायरेक्ट तरीका mutual funds है अर्थात कि अगर आप स्टॉक में इन्वेस्ट करना चाहते है, लेकिन अपना टाइम व एफर्ट नही लगाना चाहते है, तो mutual funds आपको एक सुनहरा अवसर प्रदान करता है, और इससे आप 15% से 18% का रिटर्न कमा सकतें है |

जब आप स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट करना चाहते हो, तो आपको डीमैट अकाउंट ओपन पड़ता है, इस अकाउंट को ओपन करने व मेन्टेनेन्स के लिए आपको ओपनिंग चार्ज और एनुअल मेन्टेनेन्स चार्ज भी देना होता है |

जबकि mutual funds में invest करने के लिए डीमैट अकाउंट open करना जरुरी नही है, आप बैंक में या म्यूच्यूअल फंड डिस्ट्रिब्युटर के पास जाकर mutual funds की KYC करा सकते है |

स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट करने से पहले आपको कंपनियों के बिज़नेस मॉडल, प्रॉफिट, भविष्य में कंपनी के कारोबार आदि का एनालिसिस या विशलेषण करना होता है ताकि आपको लाभ हो, नुकसान न हो |

जिस प्रकार स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट करने के लिए हमें एक अच्छे शेयर को खरीदना होता है उसी प्रकार mutual funds में इन्वेस्ट करने के लिए आपको बेस्ट mutual funds, सक्षम फण्ड मैनेजर, एसेट मैनेजमेंट कंपनी का ट्रैक रिकार्ड आदि देखना होता है ?
Read More

Jun 24, 2019

कंपाउंड इन्टरेस्ट क्या है | Compound Interest in Hindi

चक्रवृधि ब्याज (Compound Interest) एक अजूबा है , ये मैंने नही कह रहा दुनिया के महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइन्स्टीन ने कहा है |  आइये देखे कंपाउंड इन्टरेस्ट फार्मूला (Compound Interest formula) का प्रयोग कंपाउंड इन्टरेस्ट कैलकुलेट करने के लिए कैसे करते है |

Compound Interest Formula

What is Interest (ब्याज क्या है)

Interest: जो हमें पैसे जमा करने पर बैंक या साहूकार हमारे पैसे के उपर में देता है उसे ब्याज कहते है |

ब्याज दो प्रकार के होते है

Simple Interest ( साधारण ब्याज) : जब कोई व्यक्ति लोन लेता या देता है तो उस लोन पर एक निश्चित समय(Time) में मिलने वाला ब्याज (Interest ) और पैसा (Amount ) फिक्स्ड रहता है तो उसे साधारण ब्याज कहा जाता है |

आप इस फार्मूला का प्रयोग करके साधारण ब्याज कैलकुलेट कर सकते है |

साधारण ब्याज = (मूलधन x समय x दर) / 100

जैसेः 

Ram ने 5% की दर से 5000 रूपयें का लोन दिया |

5000 रूपयें मूलधन है जिसमे 5% की दर से ब्याज को जोड़ा जायेगा |

पहला साधारण ब्याज:  250 रूपयें
दूसरा साधारण ब्याज:  250 रूपयें
तीसरा साधारण ब्याज:  250 रूपयें

कुल(Total) : 5750 रूपये (तीन महीने बाद)

Compound Interest(चक्रवृधि ब्याज ) : चक्रवृधि ब्याज,  साधारण ब्याज से पूरी तरह अलग है,
Compound Interest(चक्रवृधि ब्याज ) में जब कोई व्यक्ति लोन लेता या देता है तो मूलधन(principal Amount)  समय के साथ बदलते रहता है क्योंकि इसमें पुराने मूलधन में उसके ब्याज को जोड़ दिया जाता है |
और ये लगातार चलते रहता है जबतक लोन चुकाया न जाये |

एक बात ध्यान रखे आपको सेविंग बैंक, फिक्स्ड डिपाजिट, आदि में साधारण ब्याज मिलता है, आपको कंपाउंड इन्टरेस्ट नही मिलता है और इसलिए आपका पैसा तेजी से नही बढ़ता है |

Compound Interest Formula

आप इस फार्मूला का प्रयोग कर सकते हैं -

कुल रकम = मूलधन (1+दर) x समय

मूलधन = (दिया या लिया गया लोन )
ब्याज दर = ( निर्धारित ब्याज का दर उदाहरण 5%)

समय = समय अवधि 

जैसेः 

श्याम ने 5% की दर से 5000 रूपयें का लोन कंपाउंड इंटरेस्ट पर दिया |

5000 रूपयें यहाँ पर मूलधन है जिसमे 5% की दर से ब्याज को जोड़ा जायेगा |

पहला चक्रवृधि ब्याज:  250 रूपयें
दूसरा चक्रवृधि ब्याज:  262.5 रूपयें (5000 + 250 = 5250 का ब्याज )
तीसरा चक्रवृधि ब्याज:  275.63 रूपयें (5250 + 262.5 = 5512.5 का ब्याज )

कुल(Total) : 5788.13 रूपये (तीन महीने बाद)

आपने देखा की कैसे चक्रवृधि ब्याज , साधारण ब्याज से अलग है, और किस तरह से आपको ज्यादा ब्याज मिला है | mutual funds और शेयर बाजार में इन्वेस्ट करने से आपको कंपाउंड इन्टरेस्ट मिलता है,  इसलिए आप शेयर बाजार और mutual funds के बारे में सीखना शुरु करे ताकि आप भी अपनी पैसा तेज़ी से बढ़ा सकें | 
Read More