बुक वैल्यू क्या है | बुक वैल्यू की सच्चाई | Book Value in Hindi

BookValue per share की मदद से किसी भी कंपनी के कुल कीमत का कैसे पता लगाया जाता है ? किसी कंपनी का बुक वैल्यू ज्यादा या कम हो तो इसका कंपनी के सेहत से क्या लेना देना है ?
Book Value in hindi

BookValue क्या है?

बुक वैल्यू को जानने से पहले आप से एक सवाल हैं -

जब किसी कंपनी को एक निश्चित समय पर बेचा जायेगा तो आप उस कंपनी के कुल कीमत का पता कैसे लगायेंगे ?

इसका जवाब है बुक वैल्यू (Book Value per Share) , आपने एकदम सही पढ़ा |

Book Value (बुक वैल्यू) किसी भी कंपनी या वस्तु की वह कीमत होती है, जो एक निश्चित समय पर उसे बेचने पर प्राप्त होती है | 

आइये इसे एक उदहारण की मदद से समझने की कोशिश करते है -

मान लीजिये एक कंपनी ABC है जो बंद होने के कगार पर है अब ऐसे समय में जब कंपनी के एसेट्स (Assets) जैसे जमीन , प्लांट , मशीन आदि को बेचा गया(100 करोड़ ) जिसे रिज़र्व में जोड़ा तो 3500 करोड़ का हुआ |

कंपनी का शेयर कैपिटल 25 करोड़ है मतलब शेयर कैपिटल और रिज़र्व 3525 करोड़ के है |

कम्पनी ने अपने उपर की सारे कर्ज (debts) को चुकाया जो लगभग 1025 करोड़ था |

तो कम्पनी ABC का कुल कीमत 3525 - 1025 = 2500 करोड़ हुआ, लेकिन इस 2500 करोड़ को कंपनी के टोटल शेयर होल्डर के बीच में बांटने पर जो वैल्यू आएगी वही इस कंपनी का बुक वैल्यू होगा |

Book Value Formula

बुक वैल्यू कैलकुलेशन करना बहुत ही आसन है -

Share Capital + Reserves / Total Number of shares = Book Value
शेयर कैपिटल + रिज़र्व / कंपनी के कुल शेयर = बुक वैल्यू

शेयर कैपिटल + रिज़र्व = 2500 करोड़
कुल शेयर की संख्या = 25 करोड़ 

2500 करोड़ / 25 करोड़ = 100 रुपये (बुक वैल्यू )

तो अब आप भी आसानी से इस फार्मूला की मदद से किसी कम्पनी की बुक वैल्यू कैलकुलेट कर के देख सकते हो |

ये भी पढ़ें:

शेयर बाजार में निवेश कैसे करें?
मल्टीबैगर स्टॉक कैसे सर्च करें?

डीमैट अकाउंट क्या है?
ब्लू चिप कम्पनी क्या है?
पेनी स्टॉक क्या है?

Share this :

Previous
Next Post »