PE Ratio in Hindi | पीई रेश्यो क्या है और Price Earnings Ratio कैसे निकालते है?

अक्तूबर 09, 2021
 शेयर बाजार की बात हो और PE Ratio का जिक्र न हो ऐसा हो नही सकता है क्योंकि PE Ratio एक इन्वेस्टर के लिए बहुत काम ही काम की चीज है | तो चलिए जानते है पीई रेश्यो क्या है ? पीई रेश्यो कैसे निकालते है? और इसका सही से प्रयोग कैसे करते है | 

PE Ratio in Hindi

पीई रेश्यो क्या है (PE Ratio in Hindi)

अगर आप दो कंपनी के शेयरों या दो इंडस्ट्री या दो देशों के बाजारों की तुलना करना चाहते है तो PE Ratio बहुत ही काम का है।

PE Ratio का पूरा नाम Price Earnings Ratio है | यह सबसे पोपुलर रेश्यो है  | पीई रेश्यो से यह पता चलता है कि एक इन्वेस्टर किसी कंपनी का शेयर खरीदनें के लिए उस कंपनी की कमाई से कितना गुना अधिक पैसा देना चाहता है |

इसके अतिरिक्त पीई रेश्यो से कोई कंपनी का शेयर सस्ता है या महंगा पता लगाया जा सकता है | इसी कारण से PE रेश्यो का प्रयोग इन्वेस्टर अधिक करते है | आइये देखते है कि पीई रेश्यो निकलता कैसे है ?

पीई रेश्यो कैसे निकालते है  (PE Ratio Kaise Nikale)

पीई रेश्यो निकालने के लिए हमें कंपनी का ईपीएस (EPS) पता होना आवश्यक है | ईपीएस की मदद से ही हम किसी कंपनी का पीई रेश्यो निकाल सकते है | इसका फार्मूला इस प्रकार है -

Market Price / EPS = PE Ratio 
शेयर की बाजार में कीमत/प्रति शेयर आय = पीई रेश्यो

हम किसी भी कम्पनी का PE रेश्यो तब तक नहीं जान सकते है जब तक हम उस कंपनी का EPS नही जान लेते है|

आइये उदहारण की सहायता से इसे समझने का प्रयास करे , एक कंपनी JKL है जिसके 10 लाख शेयर है | कंपनी JKL को वर्ष 2050 में  20 लाख का नेट प्रॉफिट(शुद्ध लाभ ) हुआ | इस कम्पनी JKL का शेयर की बाजार में कीमत 40 रूपयें है | तो इसका ईपीएस क्या होगा -


EPS = 20 लाख / 10 लाख = 2 रूपये


इस प्रकार कंपनी JKL का ईपीएस 2 रूपयें है, चलिए अब हम इसका पीई रेश्यो निकालते है -


PE Ratio = JKL का शेयर मूल्य 40 रूपये  / JKL का EPS 2 रूपये = 20


यहाँ पर कंपनी JKL का पीई रेश्यो 20 निकलकर आता है | इसका मतलब यह है कि इन्वेस्टर्स प्रति शेयर 2 रूपयें कमाने के लिए 20 गुना ज्यादा पैसे देने को तैयार है |

नोट : किसी भी कंपनी का ईपीएस उस कंपनी के नेट प्रॉफिट से निकलता है जो कम या ज्यादा हो सकता है | किसी भी कंपनी का पीई रेश्यो कंपनी के ईपीएस व कंपनी के शेयर की कीमत से निकलता है जो कम या ज्यादा हो सकता है |  

PE Ratio का सही प्रयोग कैसे करे 

PE Ratio का प्रयोग कर हम किसी कंपनी के ग्रोथ बढ़ने या घटने का अंदाजा भी लगा सकते है | इसके लिए कम्पनी के पिछलें कुछ सालों का रिकॉर्ड देखियें और पता करे कि मैक्सिमम PE कितना था उसके बाद पुरे इंडस्ट्री के औसत PE को पता करे और अंत में पुरे बाजार का औसत PE पता करके एक दुसरे से तुलना करे |

ध्यान रखने वाली बात (Points to Remember)

  • कभी भी केवल PE रेश्यो को ही देखकर निवेश न करे
  • पूरी कंपनी व बिज़नेस की फंडामेंटल एनालिसिस करे 
  • PE दिखाता है कि कोई शेयर सस्ता या महंगा ट्रेड हो रहा है 
  • ज्यादातर लोग 21 से ज्यादा PE वाले स्टॉक पर इन्वेस्ट नही करते

Share this :

Previous
Next Post »