शेयर बाजार और म्युचुअल फंड में रिटर्न का अंतर | Stock Market Vs Mutual Funds in Hindi

शेयर बाजार और म्युचुअल फंड में बेहतर कौन है ? क्या Stock Market में इनवेस्ट करने से Mutual Funds से ज्यादा रिटर्न मिलता है ? अगर आपके मन में भी यह सवाल आता है तो आज मैं आपको इन सारे सवालों के जवाब दे रहा हूँ |

Stock Market Vs Mutual Funds in Hindi


चाहे आप stocks में इन्वेस्ट करना चाहते हो या mutual funds में, इसके लिए आपको तीन फैक्टर्स को समझना होगा |

पहला, आप कितना रिटर्न चाहते है ? क्या आप हाई रिटर्न के लिए हाई रिस्क लेने के लिए तैयार है?

दूसरा, आप फाइनेंसियल रिसर्च और स्टडी करना कितना पसंद करते है और इसके लिए आप कितना समय दे सकते हैं ?

तीसरा, आप कितना फीस, टैक्स आदि देने को तैयार है ?

Stock Market Vs Mutual Funds

जब आप share खरीदते है, इसका मतलब आप एक कंपनी का कुछ पार्ट खरीदते है, जिससे आपको दो तरह से लाभ होता है |

पहला, जब कम्पनी प्रॉफिट करती है तो वह आपको प्रॉफिट का कुछ भाग shareholders में बाँट देती है |


दूसरा, जब आप किसी कम्पनी को कम दाम में खरीदते है और जब कम्पनी के शेयर का दाम बढ़ता हैं और जब आप उसे बेच देते है तो उससे भी आपको लाभ होता है |


mutual funds डाइवर्सिफाइड होता है, डाइवर्सिफाइड का मतलब है, जब आप अपना पैसा लगाते है तो यह स्टॉक्स, बांड, फिक्स्ड डिपाजिट, गोल्ड आदि एसेट में लगता है |


इन एसेट में एसेट मैनेजमेंट कंपनियों के फंड मैनेजर रिसर्च करके आपके दिए गये पैसे को लगाता है, लेकिन रिसर्च करने में फंड मैनेजर को भी समय व एनर्जी दोनों लगता हैं | 


जब आप mutual funds में इन्वेस्ट करते है तो आपको mutual fund unit मिलता है जिसके दाम (NAV) नेट एसेट वैल्यू घटते बढ़ते है |


जब आप शेयर खरीदते है तो यह स्टॉक मार्केट में डायरेक्ट इन्वेस्टमेन्ट होता है इसलिए इससें ज्यादा रिटर्न मिलने के सम्भावना होती है |

शेयर से आप 18% से 25% मिनिमम रिटर्न की उम्मीद कर सकते है, लेकिन इसके लिए आपको खुद से रिसर्च व स्टडी करनी पड़ती है, और आपका काफ़ी एनर्जी व समय लगता है |


स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट करने का इनडायरेक्ट तरीका mutual funds है अर्थात कि अगर आप स्टॉक में इन्वेस्ट करना चाहते है, लेकिन अपना टाइम व एफर्ट नही लगाना चाहते है, तो mutual funds आपको एक सुनहरा अवसर प्रदान करता है, और इससे आप 15% से 18% का रिटर्न कमा सकतें है |


जब आप स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट करना चाहते हो, तो आपको डीमैट अकाउंट ओपन पड़ता है, इस अकाउंट को ओपन करने व मेन्टेनेन्स के लिए आपको ओपनिंग चार्ज और एनुअल मेन्टेनेन्स चार्ज भी देना होता है |


जबकि mutual funds में invest करने के लिए डीमैट अकाउंट open करना जरुरी नही है, आप बैंक में या म्यूच्यूअल फंड डिस्ट्रिब्युटर के पास जाकर mutual funds की KYC करा सकते है |


स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट करने से पहले आपको कंपनियों के बिज़नेस मॉडल, प्रॉफिट, भविष्य में कंपनी के कारोबार आदि का एनालिसिस या विशलेषण करना होता है ताकि आपको लाभ हो, नुकसान न हो |


जिस प्रकार स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट करने के लिए हमें एक अच्छे शेयर को खरीदना होता है उसी प्रकार mutual funds में इन्वेस्ट करने के लिए आपको बेस्ट mutual funds, सक्षम फण्ड मैनेजर, एसेट मैनेजमेंट कंपनी का ट्रैक रिकार्ड आदि देखना होता है ?

ये भी पढ़ें:

म्यूच्यूअल फण्ड क्या है | Mutual Funds in Hindi

शेयर बाजार में निवेश कैसे करें?
म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश कैसे करें?

रेगुलर म्यूच्यूअल फण्ड क्या है ?
SIP या Lumpsum बेहतर रिटर्न किसमे मिलता है?

SIP कैसे करें ?

Share this :

Previous
Next Post »