Sep 7, 2019

एसआईपी कैसे करतें है | SIP की पूरी जानकारी | SIP in Hindi

Leave a Comment
SIP in Hindi: पिछले कुछ सालो में म्यूच्यूअल फण्ड में इन्वेस्ट बहुत तेजी से बढ़ा है | इसकी मुख्य वजह म्यूच्यूअल फण्ड में SIP या सिप का विकल्प है | mutual fund SIP आपको एक निश्चित समय में पैसे को इन्वेस्ट करने के सुविधा देता है |
SIP in hindi

SIP या सिप क्या है ?

SIP या सिप का अर्थ सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेन्ट प्लान है मतलब आप एक सिस्टेमेटिक ढंग से हर महिना एक निश्चित राशि म्यूच्यूअल फण्ड में इन्वेस्ट कर सकते है | SIP 500 रूपये से भी शुरु किया जा सकता है |

SIP या सिप के फायदे

SIP में आपको एकमुश्त पैसे लगाने की जरूरत नही होती है अतः जिसके पास कम पैसे है वह भी SIP करा सकते है |

SIP करने से आपको शेयर बाजार के उतार-चढाव का भी डर नही होता है क्योकिं आप थोड़ा-थोड़ा पैसा हर महीनें लगाते है | और आपको पैसा डूबने का डर नही होता है |

SIP लम्बें समय तक करते रहने से कम्पौन्डिंग का लाभ मिलता है मतलब लम्बे समय में आपको आपके लगाये पैसे के रिटर्न पर भी रिर्टन मिलता है |

SIP की राशि को समय समय में घटाया या बढ़ाया जा सकता है | जैसेः शेयर बाजार जब नीचें रहता है तो उस समय SIP की राशि को बढ़ाने से आपको ज्यादा म्यूच्यूअल फण्ड यूनिट मिलते है |

SIP कैसे करें?

SIP करना बहुत ही आसान है लेकिन कुछ बातों का ध्यान रखें |
  1. अपने लक्ष्य निर्धारित करे उसके बाद ही SIP कराये और SIP बचत किये गये पैसों का ही करें |
  2. सिप या SIP लम्बें समय के लिए करें क्योकिं लॉन्ग टाइम में ही SIP अच्छा रिटर्न देती है |
  3. SIP करने से पहले KYC केवाईसी कराले यह केवल एक बार की प्रक्रिया है | उसके बाद आप किसी भी फण्ड हाउस से म्यूच्यूअल फण्ड में SIP करा सकते है |
  4. SIP कराने के लिए फ़ोटो, पैन कार्ड, आधार कार्ड, बैंक डिटेल्स, लेकर नजदीकी फण्ड डिस्ट्रीब्यूटर या एजेंट से भी संपर्क कर सकते है |
  5. निवेश की राशि और तारीख़ तय जरुर करें | जिससे आपका पैसा एक निश्चित दिनाकं को आपके खाते से निवेश के लिए कटौती किया जा सकें |
  6. SIP शुरु करने से पहले अपने फाइनेंसियल सलाहकार से परामर्श अवश्य करें |

If You Enjoyed This, Take 5 Seconds To Share It

0 comments:

Post a Comment