बेस्ट म्यूच्यूअल फण्ड कैसे चुनें - Best Mutual Funds in Hindi

क्या अक्सर निवेश करने से पहले आपके मन में ख्याल आता है कि एक best mutual funds कैसे चुने ? यह एक आम बात है मेरे मन में भी ऐसा ख्याल आता है- कौन सा mutual funds बेस्ट है? किस mutual funds से ज्यादा रिटर्न मिलता है?

तो चलिए आज जानते है कि best mutual funds कैसे चुनते है, जिससे आप रिस्क कम करके बेहतर रिटर्न कमा सके |
Best Mutual Funds in hindi

Best Mutual Funds कैसे चुनें ?

अगर म्यूच्यूअल फण्ड में पैसा लगाना ही है तो क्यों न एक best mutual funds को चुना जाए जिससे की लॉन्ग टर्म में हमें बेहतर रिटर्न मिले व हम अपने लक्ष्य को हासिल कर सकें |

एक बेस्ट म्यूच्यूअल फण्ड को चुनने के लिए आपको कुछ फैक्टर्स को ध्यान रखना होता है तो चलिए इन फैक्टर्स को एक-एक करके देखते है -

फण्ड का उम्र और प्रदर्शन

किसी भी फण्ड में इन्वेस्ट करने से पहले आपको फण्ड की उम्र कितना है, क्या फण्ड अभी-अभी लायी गयी है या फण्ड 4-5 साल या उसके भी अधिक पुरानी है |

इसके अतिरिक्त फण्ड ने पिछलें 3-5 वर्ष में कैसा प्रदर्शन किया है, क्या फण्ड ने लगातार अच्छा रिटर्न दिया है और क्या आगे आने वर्षों में भी बेहतर प्रदर्शन करने वाली है | इन सब को जरुर पता करें |

फण्ड ने 1 साल में व 3 साल में निवेशकों को कितना रिटर्न दिया है अर्थात् छोटी व लम्बी अवधि में कैसा रिटर्न दिया है |

इसके साथ ही फण्ड ने बाजार में कमजोरी के वक्त कैसा प्रदर्शन किया है, अगर बाजार में गिरावट (Bear मार्केट) के समय भी फण्ड में ज्यादा गिरावट नही आई है तो यह एक बेहतर फण्ड का संकेत होता है |

फण्ड का खर्च

एक फण्ड आपको बेहतर रिटर्न दे सकता है, लेकिन क्या वह फण्ड खर्च भी ज्यादा लेता है | अगर ऐसा है तो आप फण्ड के कास्ट को सावधानीपूर्वक कैलकुलेट करें |

क्योकिं आप लम्बें समय तक फण्ड में निवेश करने वालें है तो 1% - 2% का अतिरिक्त खर्च भी लॉन्ग टर्म में बहुत ज्यादा होता है | इसलिए किसी फण्ड में इन्वेस्ट करने से पहले फण्ड का खर्च जरुर चेक करें |

निवेशित रहने का समय (Time Horizon)

एक बेहतर म्यूच्यूअल फण्ड स्कीम चुनने के लिए time horizon भी महत्वपूर्ण होता है |

यह जानने के बाद कि आप किसी फण्ड में कितने समय तक निवेशित रहना चाहते है तो म्यूच्यूअल फण्ड की बहुत से विकल्प में से एक अच्छा आप्शन चुनना आपके लिए आसान हो जाता है |

फण्ड हाउस (AMC)

फण्ड हाउस या एसेट मैनेजमेंट कंपनी पर लोग कितना विश्वास करते है | एक अच्छा फण्ड हाउस वह होता है जो निवेशकों के अच्छे इन्वेस्टमेंट के लिए कई स्कीम्स की विकल्प रखता है |

एक निवेशक को फण्ड हाउस के उम्र, हाउस के मैनेजमेंट का पिछला रिकार्ड, इन्वेस्टमेंट का प्रोसेस, व फण्ड हाउस ने कितना फण्ड (AUM) मैनेज किया है | एक फण्ड हाउस या AMC को चुनने से पहले इन सब बातों को जरुर ध्यान दे |

इसके अलावा यह जरुर पता करे कि फण्ड हाउस के टॉप परफॉर्मेंस वाली कितनी स्कीम्स है |

फण्ड का पोर्टफोलियो

किसी भी फण्ड में निवेश से पहले उस फण्ड के पोर्टफोलियो को अवश्य देखें | क्या फण्ड अच्छी तरह से डाइवर्सिफाई किया गया है मतलब अलग-अलग एसेट क्लास व सेक्टर्स में पैसे लगाया जाता है या नही |

क्या फण्ड में इक्विटी, बांड आदि सिक्योरिटीज़ शामिल है ? क्या निवेशकों के लक्ष्य, रिस्क क्षमता आदि के आधार पर निवेश किया जाता है या फिर फण्ड मैनेजर अपनीं मन से कुछ भी पोर्टफोलियो तो नही बना रहा है |


फण्ड मैनेजर का प्रदर्शन

म्यूच्यूअल फण्ड इन्वेस्टमेंट का एक बेस्ट ऑप्शन माना जाता है क्योकिं इसे प्रोफेशनल फण्ड मैनेजर मैनेज करता है और निवेशकों को बेहतर रिटर्न दिलाने के लिए अच्छे विकल्पों का चुनाव करता है इसलिए एक बेहतर फण्ड मैनेजर को चुनना बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है |

किसी फण्ड में पैसा लगाने से पहले आपको फण्ड मैनेजर के पिछलें रिकार्ड, रिटर्न, अनुभव, कितने स्कीम्स का मैनेजमेंट, इन्वेस्टमेंट स्टाइल आदि का अवश्य पता होना चाहियें |



नोट 1: एक फण्ड का पिछला रिकार्ड बेहतर है इसका मतलब फण्ड मैनेजर ने उस फण्ड को अच्छा मैनेज किया है लेकिन क्या वह फण्ड मैनेजर अभी भी फण्ड मैनेज कर रहा है या नहीं |

क्या उस फण्ड मैनेजर के जगह पर कोई नया फण्ड मैनेजर तो फण्ड को मैनेज नही कर रहा है और क्या नया फण्ड मैनेजर अच्छा प्रदर्शन करने में सक्षम है या नही | इन बातों को किसी भी फण्ड में निवेश करने से पहले अवश्य ध्यान रखें |



नोट 2: एक निवेशक के नजरिये से आपको किसी भी mutual funds में इन्वेस्ट करने से पहले अपनी जोखिम उठाने की क्षमता, निवेशित रहने का समय, निवेश का उद्देश्य, रिटर्न की उम्मीद आदि जानना बहुत आवश्यक होता है क्योकिं इससे ही आपको एक best mutual fund सेलेक्ट करने में मदद मिलती है |

Share this :

Previous
Next Post »