Showing posts with label Mutual Fund. Show all posts
Showing posts with label Mutual Fund. Show all posts

Jul 15, 2019

सबसे अच्छा इन्वेस्टमेंट ऑप्शन | Best Investment Options in Hindi

क्या आप जानते है? Best Investment Options/Plans कौन सा है ? आज इस पोस्ट में आपके सारे सवालो के मिलने वाले है तो इसे लास्ट तक जरुर पढ़े |

अलग- अलग लोग अलग- अलग चीजों में इन्वेस्ट करते है क्योंकि सभी लोगों का पसंद अलग अलग होता है | किसी को खाना अच्छा लगता है , किसी को गाना अच्छा लगता है | इसी प्रकार किसी सोना पसंद है तो किसी म्यूच्यूअल फण्ड या स्टॉक मार्किट इन्वेस्ट न करके रोना पसंद है | सबकी चॉइस अलग है | इश्वर ने सबको बनाया ही ऐसा है |

Best Investment Options in Hindi


मैं बेस्ट इन्वेस्टमेंट के बारे में बताने के बजाय खाना, गाना , सोना और रोना क्यों रो रहा हूँ | 

आपको ये बताना जरुरी था कि सब के पास अच्छे आप्शन होते है, लेकिन लोगों का पसंद ही ऐसा है कि वें रिस्क व ज्ञान लेते ही नही है |

चलो भी अब पकाना बंद करो और बताओ कि रिटर्न किसमें ज्यादा मिलता है | कुछ ऐसा ही तो नही सोच रहे न |
तो चलो फिर best investment plans के बारे में बता ही देता हूँ |

Best Investment Options/Plans in Hindi

इन्वेस्टमेन्ट आप्शन बहुत सारे है लेकिन मैंने जो जिक्र किया है (रिस्क, ज्ञान , व रिटर्न ) के आधार पर लोग अलग अलग आप्शन में इन्वेस्ट करते है |


फिक्स्ड डिपाजिट: सबसे आसन तरीका इन्वेस्ट करने का | बस बैंक में जाकर बोल दो "सर फिक्स्ड डिपाजिट " करना है | उसके बाद आपको 7 - 8 % का रिटर्न तो पक्का मिल जायेगा, लेकिन एक सीक्रेट बात बताता हूँ महंगाई दर 3% - 4% से बढ़ता है | महंगाई दर आपको दिखाई नही देगी लेकिन खा पूरा जाएगी | आपके पैसे की वैल्यू | और फिक्स्ड डिपाजिट के ब्याज दर में महंगाई दर घटा दो फिर जो बचेगा वो तुम्हारा |

रियल एस्टेट: जमींन जायदाद बोलते है शायद इसे | 8% - 9% तो रिटर्न दे देती है यह भी | लेकिन सोच समझ के खरीदना कमर्शियल एरिया व रेजिडेंशियल एरिया के हिसाब से मिलता है रिटर्न |

गोल्ड : आपको सोना है या आपको सोना चाहिए | लिखलो किसी कागज में वरना खो जाओगे सपने में | सोना 11% - 12% का रिटर्न देती है और सोना आभूषण तो है ही |

म्यूच्यूअल फंड:  फेसबुक में म्यूच्यूअल फ्रेंड और लाइफ में म्यूच्यूअल  फण्ड बहुत ही जरुरी  है | रिस्क जो कम हो जाता है | टेंशन ख़तम हो जाता है | कम रिटर्न व कम दोस्त होने का | म्यूच्यूअल फंड  15% - 16% का रिटर्न दे देता है | जो कि कम नही है | इससे आप स्टॉक मार्किट में भी पैसा लगा सकते हो | बिना किसी पढ़ाई व रिसेअर्च के | लेकिन थोड़े से रिस्की होते है ये म्यूच्यूअल फंड, पर आप फण्ड मैनेजर को बता कर रिस्क कम कर सकते  है | बहुत आप्शन है इसमें |

स्टॉक मार्केट: मैं न इसके बारे में बताने वाला ही नही था | क्योंकि बहुत से लोग सुनके ही डर जाते है | इसलिए मैंने इसको लास्ट में रखा है| इसमें रिटर्न ज्यादा मिलता है | 20% मिलता है | कई लोग तो रगड़ के बिज़नस का रिसर्च करने के बाद 35% तक ले आते है | रिटर्न | हैं न बहुत रिस्की | रिटर्न लाना | लेकिन 20% रिटर्न लाना भी बहुत संतोषजनक है | लम्बे समय में शेयर बाजार 100X (आपका पैसा 100 गुना  ) का रिटर्न भी दे सकती है

अब मेरा काम पूरा हो गया है, अब आपकी बारी है | ज्ञान बढ़ा के रिस्क कम | रिटर्न ज्यादा करने की| रुको एक बार और ज्ञान बढ़ा के रिस्क कम | रिटर्न ज्यादा करने की |
Read More

Jul 10, 2019

शेयर बाजार और म्युचुअल फंड | Stock Market Vs Mutual Funds in Hindi

शेयर बाजार और म्युचुअल फंड में बेहतर कौन है ? क्या Stock Market में इनवेस्ट करने से Mutual Funds से ज्यादा रिटर्न मिलता है ? अगर आपके मन में भी यह सवाल आता है तो आज मैं आपको इन सारे सवालों के जवाब दे रहा हूँ |

Stock Market Vs Mutual Funds in Hindi


चाहे आप stocks में इन्वेस्ट करना चाहते हो या mutual funds में, इसके लिए आपको तीन फैक्टर्स को समझना होगा |

पहला, आप कितना रिटर्न चाहते है ? क्या आप हाई रिटर्न के लिए हाई रिस्क लेने के लिए तैयार है?

दूसरा, आप फाइनेंसियल रिसर्च और स्टडी करना कितना पसंद करते है और इसके लिए आप कितना समय दे सकते हैं ?

तीसरा, आप कितना फीस, टैक्स आदि देने को तैयार है ?

Stock Market Vs Mutual Funds

जब आप share खरीदते है, इसका मतलब आप एक कंपनी का कुछ पार्ट खरीदते है, जिससे आपको दो तरह से लाभ होता है | पहला, जब कम्पनी प्रॉफिट करती है तो वह आपको प्रॉफिट का कुछ भाग shareholders में बाँट देती है | दूसरा, जब आप किसी कम्पनी को कम दाम में खरीदते है और जब कम्पनी के शेयर का दाम बढ़ता हैं और जब आप उसे बेच देते है तो उससे भी आपको लाभ होता है |


mutual funds डाइवर्सिफाइड होता है, डाइवर्सिफाइड का मतलब है, जब आप अपना पैसा लगाते है तो यह स्टॉक्स, बांड, फिक्स्ड डिपाजिट, गोल्ड आदि में लगता है, इन सबमें एसेट मैनेजमेंट कंपनियों के फंड मैनेजर रिसर्च करके आपके दिए गये पैसे को लगाता है, लेकिन रिसर्च करने में फंड मैनेजर को भी समय व एनर्जी दोनों लगता हैं | 

जब आप mutual funds में इन्वेस्ट करते है तो आपको mutual fund unit मिलता है जिसके दाम (NAV) नेट एसेट वैल्यू घटते बढ़ते है |

जब आप शेयर खरीदते है तो यह स्टॉक मार्केट में डायरेक्ट इन्वेस्टमेन्ट होता है इसलिए इससें ज्यादा रिटर्न मिलने के सम्भावना होती है, शेयर से आप 18% से 25% मिनिमम रिटर्न की उम्मीद कर सकते है, लेकिन इसके लिए आपको खुद से रिसर्च व स्टडी करनी पड़ती है, और आपका काफ़ी एनर्जी व समय लगता है |

स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट करने का इनडायरेक्ट तरीका mutual funds है अर्थात कि अगर आप स्टॉक में इन्वेस्ट करना चाहते है, लेकिन अपना टाइम व एफर्ट नही लगाना चाहते है, तो mutual funds आपको एक सुनहरा अवसर प्रदान करता है, और इससे आप 15% से 18% का रिटर्न कमा सकतें है |

जब आप स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट करना चाहते हो, तो आपको डीमैट अकाउंट ओपन पड़ता है, इस अकाउंट को ओपन करने व मेन्टेनेन्स के लिए आपको ओपनिंग चार्ज और एनुअल मेन्टेनेन्स चार्ज भी देना होता है |

जबकि mutual funds में invest करने के लिए डीमैट अकाउंट open करना जरुरी नही है, आप बैंक में या म्यूच्यूअल फंड डिस्ट्रिब्युटर के पास जाकर mutual funds की KYC करा सकते है |

स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट करने से पहले आपको कंपनियों के बिज़नेस मॉडल, प्रॉफिट, भविष्य में कंपनी के कारोबार आदि का एनालिसिस या विशलेषण करना होता है ताकि आपको लाभ हो, नुकसान न हो |

जिस प्रकार स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट करने के लिए हमें एक अच्छे शेयर को खरीदना होता है उसी प्रकार mutual funds में इन्वेस्ट करने के लिए आपको बेस्ट mutual funds, सक्षम फण्ड मैनेजर, एसेट मैनेजमेंट कंपनी का ट्रैक रिकार्ड आदि देखना होता है ?
Read More

Jun 24, 2019

कंपाउंड इन्टरेस्ट क्या है | Compound Interest in Hindi

चक्रवृधि ब्याज (Compound Interest) एक अजूबा है , ये मैंने नही कह रहा दुनिया के महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइन्स्टीन ने कहा है |  आइये देखे कंपाउंड इन्टरेस्ट फार्मूला (Compound Interest formula) का प्रयोग कंपाउंड इन्टरेस्ट कैलकुलेट करने के लिए कैसे करते है |

Compound Interest Formula

What is Interest (ब्याज क्या है)

Interest: जो हमें पैसे जमा करने पर बैंक या साहूकार हमारे पैसे के उपर में देता है उसे ब्याज कहते है |

ब्याज दो प्रकार के होते है

Simple Interest ( साधारण ब्याज) : जब कोई व्यक्ति लोन लेता या देता है तो उस लोन पर एक निश्चित समय(Time) में मिलने वाला ब्याज (Interest ) और पैसा (Amount ) फिक्स्ड रहता है तो उसे साधारण ब्याज कहा जाता है |

आप इस फार्मूला का प्रयोग करके साधारण ब्याज कैलकुलेट कर सकते है |

साधारण ब्याज = (मूलधन x समय x दर) / 100

जैसेः 

Ram ने 5% की दर से 5000 रूपयें का लोन दिया |

5000 रूपयें मूलधन है जिसमे 5% की दर से ब्याज को जोड़ा जायेगा |

पहला साधारण ब्याज:  250 रूपयें
दूसरा साधारण ब्याज:  250 रूपयें
तीसरा साधारण ब्याज:  250 रूपयें

कुल(Total) : 5750 रूपये (तीन महीने बाद)

Compound Interest(चक्रवृधि ब्याज ) : चक्रवृधि ब्याज,  साधारण ब्याज से पूरी तरह अलग है,
Compound Interest(चक्रवृधि ब्याज ) में जब कोई व्यक्ति लोन लेता या देता है तो मूलधन(principal Amount)  समय के साथ बदलते रहता है क्योंकि इसमें पुराने मूलधन में उसके ब्याज को जोड़ दिया जाता है |
और ये लगातार चलते रहता है जबतक लोन चुकाया न जाये |

एक बात ध्यान रखे आपको सेविंग बैंक, फिक्स्ड डिपाजिट, आदि में साधारण ब्याज मिलता है, आपको कंपाउंड इन्टरेस्ट नही मिलता है और इसलिए आपका पैसा तेजी से नही बढ़ता है |

Compound Interest Formula

आप इस फार्मूला का प्रयोग कर सकते हैं -

कुल रकम = मूलधन (1+दर) x समय

मूलधन = (दिया या लिया गया लोन )
ब्याज दर = ( निर्धारित ब्याज का दर उदाहरण 5%)

समय = समय अवधि 

जैसेः 

श्याम ने 5% की दर से 5000 रूपयें का लोन कंपाउंड इंटरेस्ट पर दिया |

5000 रूपयें यहाँ पर मूलधन है जिसमे 5% की दर से ब्याज को जोड़ा जायेगा |

पहला चक्रवृधि ब्याज:  250 रूपयें
दूसरा चक्रवृधि ब्याज:  262.5 रूपयें (5000 + 250 = 5250 का ब्याज )
तीसरा चक्रवृधि ब्याज:  275.63 रूपयें (5250 + 262.5 = 5512.5 का ब्याज )

कुल(Total) : 5788.13 रूपये (तीन महीने बाद)

आपने देखा की कैसे चक्रवृधि ब्याज , साधारण ब्याज से अलग है, और किस तरह से आपको ज्यादा ब्याज मिला है | mutual funds और शेयर बाजार में इन्वेस्ट करने से आपको कंपाउंड इन्टरेस्ट मिलता है,  इसलिए आप शेयर बाजार और mutual funds के बारे में सीखना शुरु करे ताकि आप भी अपनी पैसा तेज़ी से बढ़ा सकें | 
Read More

Feb 2, 2019

एस आई पी क्या है | SIP Full Form | SIP in Hindi

क्या आप जानते है ? SIP क्या है? Mutual Fund में SIP कैसे करें ?

SIP Full Form in Hindi

SIP Full Form क्या है?

 आसान शब्दों में: Systematic investment plan (SIP) यानि इन्वेस्टमेंट करने का एक नियमित तरीका है जो एक महीने, दो महीनें , चार महीने आदि के अंदर किया जाना चाहिए | सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (SIP) में एक निश्चित समय में investment होता  है |

सिप या SIP, mutual fund में इन्वेस्ट का सबसे बेहतरीन विकल्प में से एक है, 


SIP Investment करने के लिए आपको बहुत बड़ी पूंजी की आवश्यकता नही होती है आप 100 रूपये की बचत से अपना SIP investment शुरु कर सकते है लेकिन कई म्यूच्यूअल फंड्स में आपको 500 से शुरु करना होता है|

Clear Tax के अनुसार
सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान, जिसे आमतौर पर SIP के रूप में संदर्भित किया जाता है, आपको अपनी पसंदीदा म्यूचुअल फंड स्कीम में नियमित रूप से एक निश्चित राशि निवेश करने की अनुमति देता है। एसआईपी में, हर महीने आपके बचत खाते से एक निश्चित राशि काटी जाती है और आपके द्वारा निवेश करने के लिए चुने गए म्यूचुअल फंड की ओर निर्देशित किया जाता है।

SIP के लाभ

  • इसमें आप कम पैसो (100, 500) से शुरुआत कर सकते है |
  • कम से कम रिस्क में बेहतर लाभ |
  • इसमें आपको बैंक या फिक्स्ड डिपाजिट से ज्यादा रिटर्न मिलता है |
  •  SIP Mutual Fund Investment करने से Compound Interest (चक्रवृधि ब्याज )का लाभ |
  • इससे आप बचत व निवेश करना सीखते है |
  • शेयर बाजार के उतार चढ़ाव को आसानी से पार कर सकते है |
  • जब आपके पास पैसे हो तब शुरु कर सकते है |
  • Mutual Fund में SIP निवेश करना बहुत ही आसान है |

SIP कैसे करें 

अगर आप Mutual Fund में निवेश करना चाहते है तो ये बहुत ही आसान है इसके तरीके है -
  1. आप सीधे बैंक में जाकर SIP करा सकते है जहाँ आपने अपना अकाउंट खुलवाया है |
  2. आप अपने नजदीकी म्यूच्यूअल फण्ड डिस्ट्रीब्यूटर के पास भी SIP करा सकते है |
ये भी पढ़े:

SIP से पहले ध्यान रखें

  • म्यूच्यूअल फंड्स कम्पनी के बहुत सारी म्यूच्यूअल फंड्स ऑफर या स्कीम है उन्हें अपने लक्ष्य के आधार पर चुने |
  • आप SIP के लिए एक धनराशि डिसाइड करे जैसे (1000, 2000 या आपके क्षमतानुसार )
  • म्यूच्यूअल फंड्स का चुनाव आपको खुद से करना होता है चाहे आप रेगुलर प्लान या डायरेक्ट प्लान ले|
  • आप म्यूच्यूअल फंड्स डिस्ट्रीब्यूटर से रेगुलर प्लान ले सकते है जो 1 से 2 प्रतिशत का कमीशन लेते है|
  • आप डायरेक्ट प्लान भी ले सकते है, डायरेक्ट प्लान में कोइ कमीशन नही लेते है |
  • KYC के लिए आपके पास पैन कार्ड (PAN Card ) व आधार कार्ड व बैंक डिटेल्स होना चाहिए |
Read More

Nov 21, 2018

What is SIP Mutual Fund or SIP Investment ?

SIP Mutual Fund,SIP Investment

SIP Mutual Fund

SIP Mutual fund or SIP Investment Plan is the best way to invest your money in the mutual funds.

Mutual funds are a way to grow your funds in the long-time but it requires action to take.

you need to save money regularly (weekly, monthly).

you need to invest to grow your money.

the best way is SIP Mutual fund or Systematic Investment Plan.

Why SIP Mutual Fund?

SIP Mutual fund has many advantages such as-

  • you can make a better plan with it.
  • you can manage your budget & expenses with SIP Mutual Fund.
  • you can invest a small amount(500 rs.) regularly and get higher returns.
  • you will get the advantage of Power of compounding.
  • you can invest every month via bank account.
  • the market will go up and down but you no need to worry about it.
  • it makes you disciplined to manage your finance.

How To Start SIP Mutual Fund

you need to do KYC to start SIP Investment.

you need to contact your bank or fund house to start investing through SIP.

before starting SIP set your investment goals or purpose, according to your goals need to choose one.

SIP Calculator will make you easy to set your goals.

SIP Mutual fund will give you higher returns only in the long duration. it also reduces risk and taxes.
Read More