Mutual Fund लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Mutual Fund लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

Mutual Fund in Hindi - म्युचुअल फण्ड क्या है और इसमें पैसे लगाने के क्या फ़ायदे है

फ़रवरी 06, 2022 Add Comment
Mutual Fund in Hindi - म्युचुअल फण्ड क्या है और इसमें पैसे लगाने के क्या फ़ायदे है
म्युचुअल फण्ड क्या है ? अगर यह सवाल आप मुझसे चार - पांच साल पहले पूछते तो मैं आपको यह नहीं बता पाता, लेकिन शुक्र है इंटरनेट और संयोग का, कि मुझे पर्सनल फाइनेंस से जुड़ा एक बहुत ही शानदार बुक मिला (रिच डैड पुअर डैड ), जिसमें यह बताया गया कि हम कैसे अपने पैसे से काम करा सकते है और उससे पैसे कमा सकते है और फिर मैंने उस दिन से फाइनेंसियल विषयों के बारे में सीखना शुरू किया, जिसमें म्युचुअल फण्ड भी एक है |

म्युचुअल फण्ड क्या है ( What is Mutual Fund in Hindi)


म्यूचुअल फंड, अपने पैसे को इन्वेस्ट करके रिटर्न कमाने का एक ऑप्शन है जिसमें बहुत सारे अलग अलग इन्वेस्टर्स से पैसा इकट्ठा करके, उस पैसे से सोना, ज़मीन, बांड या कंपनियों का शेयर खरीदा जाता है और फिर होने वाले फ़ायदे को उन्हीं इन्वेस्टर्स के बीच में बांटा जाता है जिन्होंने अपने पैसे लगाये है |

म्युचुअल फण्ड इन दिनों काफी पोपुलर हो रहा है क्योंकि यह अन्य ट्रेडिशनल निवेश जैसेः सोना, जमीन जायदाद, फिक्स्ड डिपोजिट आदि से ज्यादा रिटर्न देने की क्षमता रखता है, और म्युचुअल फण्ड में लॉन्ग टर्म में औसतन 14% का रिटर्न कमाया जा सकता है |

म्युचुअल फण्ड में जब कोई  निवेश करता है तो उसे म्यूच्यूअल फण्ड का यूनिट दिया जाता है | यह म्युचुअल फण्ड यूनिट, इन्वेस्टर्स को उनके लगायें गए पैसों के आधार पर मिलता है, जो ज्यादा पैसा लगाता है उसे ज्यादा म्युचुअल फण्ड यूनिट मिलता है और जो कम पैसा लगाता है उसे कम  म्युचुअल फण्ड यूनिट मिलता है |

म्युचुअल फण्ड की एक खास बात यह भी है कि इसमें कोई भी इन्वेस्ट कर सकता है, और कम पैसों जैसे 500 - 1000 रुपयों से भी इन्वेस्ट कर सकता है  और अपने फाइनेंसियल लक्ष्यों को प्राप्त कर सकता है | 

म्युचुअल फण्ड में पैसा लगाने के क्या फायदें है

चक्रवृद्धि ब्याज़ - म्यूचुअल फंड में निवेश करके चक्रवृद्धि ब्याज (रिटर्न) कमा सकते हैं, एक अच्छा म्यूचुअल फंड, लॉन्ग टर्म में औसतन 14% का रिटर्न दे सकता है , जो फ़िक्स्ड डिपॉज़िट के ब्याज से ज्यादा है|

लचीलापन - म्यूचुअल फंड में लगे पैसों को, आप कभी भी, व कहीं से भी निकाल सकते है, पैसा 3 से 5 दिन के भीतर आपके अकाउंट में जमा हो जाता है |

पारदर्शी -.म्यूचुअल फंड में लगे आपके पैसों को, आप रोजाना, महीने, साल में कभी भी देख या चेक कर सकते है

प्रोफेशनल मेनेजर - हर म्यूचुअल फंड को मैनेज करने के लिए एक एक्सपर्ट फंड मैनेजर होता है जो अपने अनुभव से पैसे को सही जगह पर इन्वेस्ट करके इन्वेस्टर्स को रिटर्न दिलाता है |

कम पैसों से शुरुआत - कम पैसों से भी म्यूचुअल फंड में निवेश करके अपने फाइनेंशियल लक्ष्य को पाया जा सकता है, आप इसमें 500-1000 रुपए से शुरुआत कर सकते हैं |

डाइवर्सीफिकेशन - म्यूचुअल फंड का पैसा गोल्ड, ज़मीन, बॉन्ड, कंपनियों के शेयरों में लगता है जिससे रिस्क सभी में बंट जाता है | क्योंकि एक साथ जमीन, या सोना या शेयर का दाम नहीं गिर सकता है |

टैक्स लाभ - म्यूचुअल फंड में निवेश करके टैक्स छूट का फ़ायदा उठा सकते हैं, इनकम टैक्स के सेक्शन 80C के माध्यम से 1.5 लाख तक म्यूचुअल फंड के ईएलएसएस (ELSS) फंड में निवेश करके टैक्स छूट ले सकते हैं |

सुरक्षित निगरानी - सभी म्यूचुअल फंड को भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (SEBI) निगरानी करती है, जो इन्वेस्टर्स के पैसों के साथ धोखाधड़ी न हो इसका पूरा ध्यान रखती हैं, और यदि कोई धोखाधड़ी करता है तो उन पर कड़ी कानूनी कार्यवाही भी करती हैं |

तो म्युचुअल फण्ड क्या है, अब यह आपकों किसी से पूछने के जरूरत नहीं है, मेरे ख्याल से अब आप चार लोगों को बता सकते है कि म्युचुअल फण्ड क्या है और इसके क्या फायदे है |

Mutual Fund कितने प्रकार के होते है ? Mutual Fund Types in Hindi

अक्तूबर 13, 2021
एक बेहतर निवेशक बनने व लाभ लेने के लिए Mutual Fund के सभी प्रकार को समझना आवश्यक है | इस पोस्ट में चर्चा करेंगे कि Mutual Fund कितने प्रकार के होते है ?
Mutual Fund कितने प्रकार के होते है

Mutual Fund कितने प्रकार के होते है?

Mutual Fund बहुत सारे अलग अलग लोगों से एकत्रित किया हुआ बहुत सारा पैसा है जिसे इन्वेस्टमेंट के लिए लोगों से, लोगों के फायदे के लिए कलेक्ट किया जाता है |

लेकिन क्या कोई एक ही कम्पनी इन सारे फंड्स को कलेक्ट या मैनेज करने का काम करती है तो ऐसा नही है |

भारत में लगभग 50 से भी ज्यादा म्युचुअल फंड्स हाउस या कम्पनी काम कर रही है जो लोगों का पैसा इकठ्ठा करती है |

जिसकी वजह से हमारे पास बहुत सारे ऑप्शन्स ( Mutual Funds Scheme ) है जिसे अलग अलग कम्पनिया प्रोवाइड करती है |

Mutual Fund Types

म्युचुअल फंड्स में निवेश करने उद्देश्य अलग अलग हो सकता है इसी को ध्यान में रखते हुए कोई भी म्युचुअल फंड्स हाउस या कम्पनी अपने स्कीम लाती है |

Based on Asset Class (एसेट क्लास पर आधारित )

इस प्रकार के फंड्स अलग अलग एसेट में इन्वेस्ट करते है जैसे: बांड्स, शेयर, आदि | 
  • Equity Funds
  • Debt Funds
  • Hybrid or Balanced Funds
  • Tax - Saving Funds
  • Sector Funds
  • Index Funds
  • Funds of Funds

Based on Structure (स्ट्रक्चर पर आधारित )

स्ट्रक्चर आधारित म्यूच्यूअल फंड्स वे होते है जो एक निश्चित समय में ख़रीदा एक बेचा जा सकता है -
  • Closed-Ended Funds
  • Open-Ended Funds

Based on Investment Objective(लक्ष्य पर आधारित )

इस प्रकार के म्यूच्यूअल फंड्स स्कीम आपके इन्वेस्टमेंट लक्ष्य को ध्यान में रखकर बनाया जाता है -
  • Growth Funds
  • Income Funds
  • Liquid Funds

Monthly Income Plan क्या है और कैसे काम करता है | Monthly Income Plan in Hindi

दिसंबर 15, 2019 1 Comment
क्या आप जानते है Monthly Income Plan क्या है? और Monthly Income Plan से हर महीने आप कैसे इनकम कर सकते है? तो चलिए आज जानते है मंथली इनकम प्लान कैसे काम करता है और आप किस तरह से इसका फायदा उठा सकते है |
Monthly Income Plans hindi

Monthly Income Plan क्या है (Monthly Income Plan in Hindi)

इस प्रकार के म्यूच्यूअल फण्ड, हाइब्रिड फण्ड होते है, जिसमे निवेश किया गया पैसा, डेब्ट, इक्विटीज आदि में लगाया जाता है |

इस तरह के फण्ड में डेब्ट व इक्विटी रेश्यो 80:20 का होता है, जो इसे एक डेब्ट आधारित फण्ड बना देती है |

मंथली इनकम प्लान का ज्यादा पैसा (80%) डेब्ट सिक्योरिटीज में लगाये जाने के कारण यह फण्ड कम रिस्क व कम रिटर्न वाले हो जाते है, जबकि (20%)इक्विटी में लगाये गये पैसे थोड़े बेहतर रिटर्न देते है |

मंथली इनकम प्लान में जो इनकम एक निवेशक हर महीने उम्मीद करता है वह इनकम पूरी तरह से अतिरिक्त (सरप्लस) मनी होने पर ही निवेशकों में बांटा जाता है|

जिस प्रकार स्टॉक में निवेश करने से शेयर होल्डर्स को प्रॉफिट का कुछ हिस्सा (ज्यादा प्रॉफिट होने पर) समय-समय में डिविडेंड के रूप में दिया जाता है, ठीक उसी प्रकार हाइब्रिड फण्ड मतलब Monthly Income Plan में भी दिया जाता है |

"मंथली इनकम प्लान" सुनने से लगता है कि इस प्रकार के फण्ड में हर महीने निवेशकों को इनकम दिया जाता होगा लेकिन अगर सरप्लस मनी (अतिरिक्त प्रॉफिट) नही है तो निवेशकों को इनकम नही मिलती है |

म्यूच्यूअल फण्ड में बाजार आधारित रिस्क होते है इसलिए Monthly Income Plan के रिटर्न या इनकम भी बाजार के रिस्क पर डिपेंड होते है |

Monthly Income Plan में निवेश करने से पहले ध्यान रखें

  • इस फण्ड में हर महीने इनकम की कोई गारंटी नही है क्योकिं यह बाजार रिस्क पर आधारित है |
  • इस फण्ड का पैसा 80% डेब्ट सिक्योरिटीज व 20% इक्विटी में लगाया जाता है|
  • मंथली इनकम प्लान में डेब्ट व इक्विटी निवेश होने के कारण रिस्क व रिटर्न बैलेंस्ड होता है |

Liquid Fund क्या है और कैसे काम करता है | Liquid Fund in Hindi

दिसंबर 14, 2019 Add Comment
क्या आप जानते है Liquid Fund क्या होता है ? और आपको Liquid Fund में कितने समय के लिए पैसे लगाने सही है? व Liquid fund के क्या-क्या फायदे है ? तो आइये देखते है Liquid Fund से जुड़ी सारी जानकारी को |

Liquid Fund in Hindi

Liquid Fund क्या है? (Liquid Fund in Hindi)

Liquid Fund एक प्रकार का डेब्ट फण्ड है, डेब्ट फण्ड जिसमे लगाया गया पैसा लॉन्ग टर्म के लिए डेब्ट सिक्योरिटीज व मनी मार्केट सिक्योरिटीज जैसे गवर्मेंट बांड, कमर्शियल पेपर, आदि में निवेश किया जाता है, जिनका मैच्योरिटी 91 दिन का होता है |

Liquid Fund उन निवेशक के लिए एक बेहतर आप्शन हो सकता है जो शोर्ट टर्म के लिए अपने आइडियल पड़े हुए पैसे को कम रिस्क के साथ, कम समय के लिए निवेश करना चाहते है | इस फण्ड से आपको सेविंग अकाउंट से बेहतर रिटर्न मिल सकता है |

Liquid Fund के लाभ

हाई लिक्विडिटी- लिक्विड फण्ड अपने लिक्विडिटी के लिए ही पोपुलर है | इन्वेस्टर जब चाहे तब अपना फण्ड निकाल (रिडीम) सकते है और 1-2 दिन के अंदर आपका पैसा आपके दिए गये बैंक अकाउंट में आ जाता है |

हाई रिटर्न- लिक्विड फण्ड लॉन्ग टर्म (3 वर्ष से अधिक) में आपको 7% का रिटर्न दे सकता है, और यह रिटर्न एक सेविंग बैंक अकाउंट में दिए गये रिटर्न से बेहतर है |

कम रिस्क - लिक्विड फण्ड का पैसा कम समय में मैच्योर होने वाले सिक्योरिटीज व हाई क्रेडिट रेटिंग सिक्योरिटीज में लगाया जाता है इसलिए इस फण्ड में कम रिस्क होता है |

करोड़पति कैसे बनें | Crorepati Kaise Bane

दिसंबर 10, 2019 Add Comment
करोड़पति, crorepati, karodpati क्या शब्द है न, और इसी शब्द को हर कोई अपने नाम के साथ लगाने के लिए कड़ी मेहनत करते है | लेकिन करोड़पति कैसे बनें? crorepati बनने के लिए क्या करें ? तो चलिए आज जानते है करोड़पति बनने का अचूक उपाय, यहाँ पर मैंने "अचूक" इसलिए लिखा है क्योकिं यह उपाय जो मैं बता रहा हूँ, उस रास्तें पर कई करोड़पति बनकर निकल चुके है | बस आपको भी उसे रास्तें पर चलना है |

Crorepati Kaise Bane

करोड़पति कैसे बनें ( Crorepati Kaise Bane )

अगर आपके पास एक करोड़ आ जाते है तो आपको अमीर की उपाधि तो मिल ही जाती है, लेकिन क्या आप जानते है? अमीर या करोड़पति बनने के लिए क्या करना पड़ता है? कैसे एक आम इन्सान करोड़पति बन सकता है? 

अगर आपका लक्ष्य करोड़पति बनना है तो आपको यह निर्धारित करना होता है कि आप कितने वर्ष (10 साल, 15 साल) में करोड़पति बनना चाहते है? मतलब अगर आप 20 या 25 साल के है तो शायद आप 40 वर्ष या 45 वर्ष में करोड़पति बनना चाहते होंगे  या फिर हो सकता है कि आप और भी जल्दी करोड़पति बनना चाहते है |

How to Become Crorepati with Mutual Funds

करोड़पति बनने के लिए जो उपाय मैं बताने जा रहा हूँ उसका नाम है "म्यूच्यूअल फण्ड" जी हाँ, म्यूच्यूअल फण्ड एक ऐसा रास्ता है, जो आपको करोड़पति बनाने में मदद कर सकता है | अभी आपके मन में यह प्रश्न आ सकता है कि यह म्यूच्यूअल फण्ड क्या है?

म्यूच्यूअल फण्ड, निवेश का एक बेहतर विकल्प होता है | म्यूच्यूअल फण्ड से औसतन 15% तक का रिटर्न कमाया जा सकता है |

म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश करके करोड़पति बनने के लिए, म्यूच्यूअल फण्ड का रिटर्न व आपके द्वारा निवेश किया गया पैसा ही बताता है कि आप कितनी जल्दी करोड़पति बन सकते है|

अगर आप म्यूच्यूअल फण्ड में 5000 रूपये, हर महीनें SIP के जरिये निवेश करते है व आपको 12% का रिटर्न मिलता है तो आपको करोड़पति बनने में 26 साल लगेंगे | यदि आप 10000 हज़ार रूपये, हर महीने निवेश करते है व 12% का औसत रिटर्न मिलता है तो आप 21 साल में करोड़पति बनेगें |

इसी प्रकार 17 साल में करोड़पति बनने के लिए आपको 15000 रूपये हर महीनें SIP निवेश करनी है व यदि 12% का औसत रिटर्न मिलते है |

तेज़ी से करोड़पति कैसे बनें?

यदि आप म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश करके तेजी से करोड़पति बनना चाहते है तो आपको कुछ बातों का ध्यान रखना होता है-

ज्यादा पैसे निवेश करना- आपने देखा जैसे-जैसे हमने निवेश के अमाउंट को 5000 से 15000 किया, करोड़पति बनने का समय 26 साल से घटकर 17 साल हो गया | मतलब आप ज्यादा पैसो का निवेश करके जल्दी करोड़पति बन सकते है |

म्यूच्यूअल फण्ड स्कीमों का विकल्प- म्यूच्यूअल फण्ड में कई विकल्प होते है, जैसे डेब्ट व इक्विटी | अगर आप डेब्ट फण्ड में निवेश करते है तो इक्विटी फण्ड से कम रिटर्न मिलते है क्योकिं डेब्ट फण्ड का पैसा सुरक्षित सिक्योरिटीज में लगाये जाते है व इनमे कम रिस्क होता है | जैसे सरकारी बांड, अच्छे रेटिंग वाले कॉर्पोरेट बांड आदि|

अगर आप इक्विटी म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश करते है तो आपको डेब्ट फण्ड से ज्यादा रिटर्न मिलता है व इसमें रिस्क भी ज्यादा होता है क्योकि इक्विटी म्यूच्यूअल फण्ड का पैसा कंपनियों के शेयर में लगाये जाते है |

अगर आप इक्विटी म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश करके जल्दी करोड़पति बनना चाहते है तो आपको इससे जुड़ें हुए सारे रिस्क को अवश्य जाने |

नोट: यह पोस्ट केवल शिक्षा/ज्ञान को बांटने के लिए है | किसी भी म्यूच्यूअल फण्ड, शेयर बाजार आदि में निवेश करने से पहले अपने वित्तीय सलाहकार से परामर्श जुरूर करें|