Showing posts with label Mutual Funds. Show all posts
Showing posts with label Mutual Funds. Show all posts

एसआईपी या लम्पसम - बेहतर रिटर्न किसमें मिलता है | SIP vs Lumpsum in Hindi

Add Comment
म्यूच्यूअल फण्ड में इन्वेस्ट करने के दो तरीके है - SIP व लम्पसम | इन दोनों तरीकें से इन्वेस्ट किया जा सकता है लेकिन दोनों के परफॉर्मेंस की तुलना कई कंडीशन के आधार पर की जाती है | इसके अतिरिक्त SIP व लम्पसम दोनों में अलग-अलग लक्ष्य और रिस्क को ध्यान में रखकर निवेश किया जाता है |
SIP Vs Lumpsum in hindi

SIP निवेश

SIP में छोटी-छोटी बचत करके निवेश किया जा सकता है अर्थात् SIP के लिए आपके पास ज्यादा पैसा होना जरुरी नही है | SIP स्टॉक मार्केट के उतार-चढ़ाव के रिस्क को कम कर देता है क्योकिं SIP कम पैसों से शुरु किया जाता है और मार्केट नीचें जाने से आपको कम पैसे से ही ज्यादा म्यूच्यूअल फण्ड यूनिट मिलने लगते है | मतलब SIP से रूपी कास्ट एवरेगिंग का लाभ उठाया जा सकता है | आप SIP को कम पैसे से शुरुआत कर बाद में SIP की रकम बढ़ा भी सकते है |

उदाहरण: प्रति महीनें 1000 रूपयें का SIP, 12 महीनें में 12000 रूपयें |


Lumpsum निवेश

म्यूच्यूअल फण्ड में लम्पसम निवेश आपको लम्बें समय में अच्छी रिटर्न देता है लेकिन अगर मार्केट क्रैश होता है तो आपको बहुत ज्यादा लोस भी होता है क्योकिं लम्पसम निवेश में एकमुश्त (बड़ी रकम ) एक ही बार में इन्वेस्ट किया गया होता है | इसलिए लम्पसम निवेश शेयर बाजार के कंडीशन को अच्छी तरह से जाँच परख कर किया जाता है | सही समय में किया गया लम्पसम निवेश लॉन्ग टर्म में शानदार रिटर्न दे सकता है पर लम्पसम निवेश में हमेशा मार्केट मार्केट डाउन होने की चिंता इन्वेस्टर्स को परेशान करती है | मतलब लम्पसम निवेश में रिस्क का स्तर बहुत ज्यादा होता है |

उदाहरण: एक बार में ही 12000 रूपयें का लम्पसम निवेश, 12 महीनें में 12000 रूपयें |

SIP vs Lumpsum बेहतर रिटर्न किसमे मिलता है?

SIP या Lumpsum निवेश में बेहतर रिटर्न पूरी तरह से शेयर मार्केट के कंडीशन पर निर्भर करता है | ऊपर जाते शेयर बाजार में लम्पसम निवेश बेहतर रिटर्न देता है | जबकि गिरते शेयर बाजार में SIP निवेश से बेहतर रिटर्न मिलता है |

म्यूच्यूअल फण्ड क्या है | What is Mutual Funds in Hindi

म्यूच्यूअल फण्ड एनएवी क्या है | नेट एसेट वैल्यू काम कैसे करता है | Mutual Fund NAV in Hindi

रेगुलर म्यूच्यूअल फण्ड क्या है ?
डायरेक्ट म्यूच्यूअल फण्ड क्या है ?

म्युचुल फण्ड के कितने प्रकार है | Types of Mutual funds

इक्विटी फण्ड क्या है | इक्विटी फण्ड के प्रकार | Equity Mutual Funds in Hindi
डेट फण्ड क्या है | डेट फण्ड के प्रकार | Debt Mutual Funds in Hindi
हाइब्रिड फण्ड क्या है | हाइब्रिड फण्ड के प्रकार | Hybrid Mutual Funds in Hindi

स्मालकैप फण्ड में क्या खास है | निवेश से पहले इन बातों का रखें ध्यान | Small Cap Mutual Funds in Hindi
लार्ज कैप फण्ड क्या है | निवेशकों के लिए क्यों है फायदेमंद | Large Cap Mutual Funds in Hindi
मल्टी कैप फण्ड क्या है | क्या आपको निवेश करना चाहिए | Multi Cap Funds in Hindi


क्या है इंडेक्स फण्ड | क्या आपको निवेश करना चाहिए | Index Funds in Hindi
एक्सचेंज ट्रेडेड फण्ड (ईटीएफ ) क्या होता है | Exchange Traded Fund (ETF) in Hindi
इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम क्या है | Equity Linked Savings Scheme (ELSS) in Hindi

SIP या Lumpsum बेहतर रिटर्न किसमे मिलता है?

शेयर बाजार क्या है | Share Market in Hindi
शेयर बाजार में निवेश कैसे करें | Share Market me Nivesh Kaise Kare

SIP in Hindi-एसआईपी क्या है और कैसे करें निवेश

Add Comment
SIP in Hindi: पिछले कुछ सालो में म्यूच्यूअल फण्ड में इन्वेस्ट बहुत तेजी से बढ़ा है | इसकी मुख्य वजह म्यूच्यूअल फण्ड में SIP या सिप का विकल्प है | लेकिन SIP क्या है और mutual fund SIP  में निवेश कैसे करते है? तो चलिए जानते है SIP यानि Systematic Investment Plan से जुड़ी सारी जानकारी व SIP के क्या-क्या फायदे है ?
SIP in hindi

SIP (Systematic Investment Plan) क्या है ?

SIP या सिप का अर्थ सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेन्ट प्लान(systematic investment plan) है मतलब आप एक सिस्टेमेटिक ढंग से हर महिना एक निश्चित राशि म्यूच्यूअल फण्ड में इन्वेस्ट कर सकते है |

उदाहरण- मान लीजिये आप हर महीनें 1000 रूपये की बचत करते है और निवेश करना चाहते है, आप यह सोच कर निवेश नही करते है कि 1000 रूपये बहुत छोटा अमाउंट है लेकिन SIP (Systematic Investment Plan) के जरिये से आप हर महीने एक हजार रूपये भी निवेश कर सकते है |

SIP या सिप के फायदे

SIP में आपको एकमुश्त पैसे लगाने की जरूरत नही होती है अतः जिसके पास कम पैसे है वह भी SIP करा सकते है |

SIP करने से आपको शेयर बाजार के उतार-चढाव का भी डर नही होता है क्योकिं आप थोड़ा-थोड़ा पैसा हर महीनें लगाते है इसलिए आपको पैसा डूबने का डर नही होता है |

SIP की राशि को समय समय में घटाया या बढ़ाया जा सकता है | जैसेः शेयर बाजार जब नीचें रहता है तो उस समय SIP की राशि को बढ़ाने से आपको ज्यादा म्यूच्यूअल फण्ड यूनिट मिलते है |

SIP कैसे करें?

SIP करने से पहले आपको कुछ बातों का ध्यान रखना होता है ताकि आपको रिटर्न भी अच्छा मिलें और आपके लक्ष्य भी पूरा हो जायें
  1. अपने लक्ष्य निर्धारित करे उसके बाद ही SIP कराये और SIP बचत किये गये पैसों का ही करें 
  2. सिप या SIP लम्बें समय के लिए करें क्योकिं लॉन्ग टाइम में ही SIP अच्छा रिटर्न देती है 
  3. SIP करने से पहले KYC केवाईसी कराले यह केवल एक बार की प्रक्रिया है | उसके बाद आप किसी भी फण्ड हाउस से म्यूच्यूअल फण्ड में SIP करा सकते है 
  4. SIP कराने के लिए फ़ोटो, पैन कार्ड, आधार कार्ड, बैंक डिटेल्स, लेकर नजदीकी फण्ड डिस्ट्रीब्यूटर या एजेंट से भी संपर्क कर सकते है 
  5. निवेश की राशि और तारीख़ तय जरुर करें | जिससे आपका पैसा एक निश्चित दिनाकं को आपके खाते से निवेश के लिए कटौती किया जा सकें
  6. SIP शुरु करने से पहले अपने फाइनेंसियल सलाहकार से परामर्श अवश्य करें

SIP करते समय इन गलतियों से बचे

लम्बे समय  के लिए निवेश न करना - अगर आप म्यूच्यूअल फण्ड में 3-5 वर्ष के लिए sip निवेश नही करते है तो आपको म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश नही करना चाहिए क्योकि म्यूच्यूअल फण्ड में लम्बे समय में ही बेहतर रिटर्न मिलता है लेकिन निवेशक अक्सर म्यूच्यूअल फण्ड से अपना पैसा बहुत जल्दी निकाल लेते है |

समय के साथ SIP की रकम न बढ़ाना - SIP के जरिये कम पैसे से निवेश शुरु कर सकते है लेकिन जब समय के साथ इनकम बढ़ती है तो SIP की रकम भी बढ़ाना चाहिये, परन्तु अक्सर निवेशक यह गलती करते है और समय के साथ SIP की रकम नही बढ़ाते है |

म्यूच्यूअल फण्ड क्या है | What is Mutual Funds in Hindi

म्यूच्यूअल फण्ड एनएवी क्या है | नेट एसेट वैल्यू काम कैसे करता है | Mutual Fund NAV in Hindi

रेगुलर म्यूच्यूअल फण्ड क्या है ?
डायरेक्ट म्यूच्यूअल फण्ड क्या है ?

म्युचुल फण्ड के कितने प्रकार है | Types of Mutual funds

इक्विटी फण्ड क्या है | इक्विटी फण्ड के प्रकार | Equity Mutual Funds in Hindi
डेट फण्ड क्या है | डेट फण्ड के प्रकार | Debt Mutual Funds in Hindi
हाइब्रिड फण्ड क्या है | हाइब्रिड फण्ड के प्रकार | Hybrid Mutual Funds in Hindi

स्मालकैप फण्ड में क्या खास है | निवेश से पहले इन बातों का रखें ध्यान | Small Cap Mutual Funds in Hindi
लार्ज कैप फण्ड क्या है | निवेशकों के लिए क्यों है फायदेमंद | Large Cap Mutual Funds in Hindi
मल्टी कैप फण्ड क्या है | क्या आपको निवेश करना चाहिए | Multi Cap Funds in Hindi


क्या है इंडेक्स फण्ड | क्या आपको निवेश करना चाहिए | Index Funds in Hindi
एक्सचेंज ट्रेडेड फण्ड (ईटीएफ ) क्या होता है | Exchange Traded Fund (ETF) in Hindi
इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम क्या है | Equity Linked Savings Scheme (ELSS) in Hindi

SIP या Lumpsum बेहतर रिटर्न किसमे मिलता है?

शेयर बाजार क्या है | Share Market in Hindi
शेयर बाजार में निवेश कैसे करें | Share Market me Nivesh Kaise Kare

रेगुलर म्यूच्यूअल फण्ड क्या है | रेगुलर प्लान व डायरेक्ट प्लान में अंतर | Regular Mutual Funds in Hindi

Add Comment
म्यूच्यूअल फण्ड निवेश का एक बेहतर ऑप्शन समझा जाता है | म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश आप दो तरीके से कर सकते है | रेगुलर म्यूच्यूअल फण्ड या डायरेक्ट म्यूच्यूअल फण्ड | पर आज हम रेगुलर म्यूच्यूअल फण्ड के बारे में जानने वाले है |
Regular Mutual Funds in Hindi

म्यूच्यूअल फण्ड बेहतर निवेश का विकल्प माना जाता है क्योकिं इसमें कम रिस्क में अच्छा रिटर्न लिया जा सकता है |

और इसकी ख़ास बात यह है कि इसमें आपको केवल पैसे इन्वेस्ट करने होते है, रिसर्च व स्टडी का काम प्रोफेशनल फण्ड मैनेजर के द्वारा किया जाता है |

Regular Mutual Funds क्या है ?

अगर आपको म्यूच्यूअल फण्ड के बारे में कोई जानकारी नही है तो भी इन्वेस्ट कर सकते है क्योकिं रेगुलर म्यूच्यूअल फण्ड में आपको डिस्ट्रीब्यूटर के द्वारा मदद या सपोर्ट मिल जाती है |

म्यूच्यूअल फण्ड डिस्ट्रीब्यूटर जब आपकी मदद करता है तो इसके लिए उसे फण्ड हाउस के द्वारा कमीशन मिलता है | फण्ड डिस्ट्रीब्यूटर को यह कमीशन आपके इन्वेस्ट किये गये पैसे से दिया जाता है |

म्यूच्यूअल फण्ड डिस्ट्रीब्यूटर या एजेंट को कमीशन केवल एक बार नही मिलता है, बल्कि जब-जब आप निवेश करते है तो उसमे से थोड़ा पैसा काटकर कमीशन के रूप में दे दिया जाता है |

रेगुलर म्यूच्यूअल फण्ड व डायरेक्ट म्यूच्यूअल फण्ड अंतर केवल डिस्ट्रीब्यूटर सपोर्ट और कमीशन का है |

म्यूच्यूअल फण्ड क्या है | What is Mutual Funds in Hindi

म्यूच्यूअल फण्ड एनएवी क्या है | नेट एसेट वैल्यू काम कैसे करता है | Mutual Fund NAV in Hindi

रेगुलर म्यूच्यूअल फण्ड क्या है ?
डायरेक्ट म्यूच्यूअल फण्ड क्या है ?

म्युचुल फण्ड के कितने प्रकार है | Types of Mutual funds

इक्विटी फण्ड क्या है | इक्विटी फण्ड के प्रकार | Equity Mutual Funds in Hindi
डेट फण्ड क्या है | डेट फण्ड के प्रकार | Debt Mutual Funds in Hindi
हाइब्रिड फण्ड क्या है | हाइब्रिड फण्ड के प्रकार | Hybrid Mutual Funds in Hindi

स्मालकैप फण्ड में क्या खास है | निवेश से पहले इन बातों का रखें ध्यान | Small Cap Mutual Funds in Hindi
लार्ज कैप फण्ड क्या है | निवेशकों के लिए क्यों है फायदेमंद | Large Cap Mutual Funds in Hindi
मल्टी कैप फण्ड क्या है | क्या आपको निवेश करना चाहिए | Multi Cap Funds in Hindi


क्या है इंडेक्स फण्ड | क्या आपको निवेश करना चाहिए | Index Funds in Hindi
एक्सचेंज ट्रेडेड फण्ड (ईटीएफ ) क्या होता है | Exchange Traded Fund (ETF) in Hindi
इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम क्या है | Equity Linked Savings Scheme (ELSS) in Hindi

SIP या Lumpsum बेहतर रिटर्न किसमे मिलता है?

शेयर बाजार क्या है | Share Market in Hindi
शेयर बाजार में निवेश कैसे करें | Share Market me Nivesh Kaise Kare

डायरेक्ट म्यूच्यूअल फण्ड क्या है | डायरेक्ट प्लान क्यों चुनें | Direct Mutual Funds in Hindi

Add Comment
इसमें कोई शक नही है कि म्यूच्यूअल फण्ड निवेश का एक बेहतर विकल्प है | लेकिन म्यूच्यूअल फण्ड  में दो तरह से निवेश किया जा सकता है | रेगुलर म्यूच्यूअल फण्ड व डायरेक्ट म्यूच्यूअल फण्ड | पर आज हम डायरेक्ट म्यूच्यूअल फण्ड के बारें में बात कर रहे है |

Direct Mutual Fund in Hindi

इससे पहले म्यूच्यूअल फण्ड को शोर्ट में समझ लेते है | म्यूच्यूअल फण्ड बहुत सारें इन्वेस्टर्स के पैसे को कहा जाता है जिनका उद्देश्य निवेश करके रिटर्न कमाना होता है | म्यूच्यूअल फण्ड की खास बात यह है कि इसमें लगाया गया पैसा स्टॉक मार्किट, गोल्ड , रियल एस्टेट (जमींन), बांड आदि में लगता है |

अगर आप म्यूच्यूअल फण्ड में इन्वेस्ट करना चाहते है तो आप फण्ड डिस्ट्रीब्यूटर या फाइनेंसियल सलाहकार की मदद ले सकते है | पर यह डायरेक्ट प्लान में जरुरी नही है |

 Direct Mutual Fund क्या है?

अगर आप डिस्ट्रीब्यूटर का सपोर्ट नही चाहते है तो डायरेक्ट प्लान आपको फण्ड में निवेश करने की सुविधा देता है | हर फण्ड का डायरेक्ट प्लान होता है ताकि आप बिना किसी डिस्ट्रीब्यूटर सपोर्ट के भी फण्ड में इन्वेस्ट कर सके |

डायरेक्ट प्लान, रेगुलर प्लान की तुलना में सस्ता होता है, क्योकिं  रेगुलर प्लान में आपकों 0.5 फीसदी से 1.0 फीसदी ज्यादा कमीशन देना होता है |

डायरेक्ट फण्ड में इन्वेस्ट करने के लिए डीमैट अकाउंट की जरूरत नही होती है, बल्कि डायरेक्ट प्लान के लिए आवश्यक डॉक्यूमेंट आधार कार्ड, पैन कार्ड, और एक बैंक अकाउंट की जरूरत होती है | या आप केवाईसी भी करा सकते है |

रेगुलर म्यूच्यूअल फण्ड व डायरेक्ट म्यूच्यूअल फण्ड अंतर केवल डिस्ट्रीब्यूटर सपोर्ट और कमीशन का है |

नोट: डायरेक्ट प्लान में निवेश उन लोगों के लिए सही होता है जिन्हें म्यूच्यूअल फण्ड की जानकारी है | अगर आप म्यूच्यूअल फण्ड के बारे में नही जानते है तो ऐसें में आपको म्यूच्यूअल फण्ड डिस्ट्रीब्यूटर या फाइनेंसियल सलाहकार से मदद लेना अच्छा होता है |

म्यूच्यूअल फण्ड क्या है | What is Mutual Funds in Hindi

म्यूच्यूअल फण्ड एनएवी क्या है | नेट एसेट वैल्यू काम कैसे करता है | Mutual Fund NAV in Hindi

रेगुलर म्यूच्यूअल फण्ड क्या है ?
डायरेक्ट म्यूच्यूअल फण्ड क्या है ?

म्युचुल फण्ड के कितने प्रकार है | Types of Mutual funds

इक्विटी फण्ड क्या है | इक्विटी फण्ड के प्रकार | Equity Mutual Funds in Hindi
डेट फण्ड क्या है | डेट फण्ड के प्रकार | Debt Mutual Funds in Hindi
हाइब्रिड फण्ड क्या है | हाइब्रिड फण्ड के प्रकार | Hybrid Mutual Funds in Hindi

स्मालकैप फण्ड में क्या खास है | निवेश से पहले इन बातों का रखें ध्यान | Small Cap Mutual Funds in Hindi
लार्ज कैप फण्ड क्या है | निवेशकों के लिए क्यों है फायदेमंद | Large Cap Mutual Funds in Hindi
मल्टी कैप फण्ड क्या है | क्या आपको निवेश करना चाहिए | Multi Cap Funds in Hindi


क्या है इंडेक्स फण्ड | क्या आपको निवेश करना चाहिए | Index Funds in Hindi
एक्सचेंज ट्रेडेड फण्ड (ईटीएफ ) क्या होता है | Exchange Traded Fund (ETF) in Hindi
इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम क्या है | Equity Linked Savings Scheme (ELSS) in Hindi

SIP या Lumpsum बेहतर रिटर्न किसमे मिलता है?

शेयर बाजार क्या है | Share Market in Hindi
शेयर बाजार में निवेश कैसे करें | Share Market me Nivesh Kaise Kare

म्युचुअल फण्ड में निवेश कैसे करे | Mutual Fund me Nivesh Kaise Kare

क्या आपने कभी mutual funds investment किया है? अगर नही, तो आज मैं इस पोस्ट के द्वारा म्युचुअल फंड्स में निवेश के बारे में बता रहा हूँ |
Mutual Funds Investment image

Mutual Funds me Nivesh Kaise Kare?

म्युचुअल फंड्स में निवेश करना बहुत ही आसान है | म्युचुअल फंड्स में आप समय, रिस्क व क्षमता के आधार पर निवेश कर सकते है |
  • SIP या Systemetic Investment Plan (सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान )
  • LumpSum Investment (लम्प सम )
दोनों तरीकों के बारे में हम नीचे बात करेंगे लेकिन सबसे पहले जानते है कि mutual funds में investment करते कैसे है | mutual funds में निवेश करने का सबसे आसान तरीका है ?

बैंक- अगर आपके पास बैंक अकाउंट है तो आप बैंक में जाकर mutual funds में SIP करा सकते है | mutual funds में इन्वेस्ट करने के लिए आपको एक बार KYC कराना पढ़ता है, इसलिए आप अपने साथ पैन कार्ड, आधार कार्ड, एक फोटो, एड्रेस इनफार्मेशन आदि रखें |

डीमैट अकाउंट - अगर आप mutual funds में इन्वेस्ट करना चाहते है तो आपको डीमैट अकाउंट खुलवाने की जरूरत नही है, लेकिन मैं आपको यह बता रहा हूँ कि कई स्टॉक ब्रोकर आपको डीमैट अकाउंट के जरिये भी mutual funds में निवेश करने की सुविधा देते है |


ऑनलाइन - आजकल आपको कई ऑनलाइन वेबसाइट व मोबाइल एप्लीकेशन भी मिल जाएगी जिसके द्वारा आप mutual funds में investment कर सकते हो | जैसे - Paytm, Groww, Kuvera आदि |

Mutual fund में निवेश कैसे करे




म्यूच्यूअल फंड्स के प्रकार अलग अलग होते है जिसके बारे में मैं बता चुका हूँ | आइये अब हम mutual funds में SIP व लम्पसंप निवेश के बारे में एक एक करके समझने का प्रयास करें |

SIP Investment (SIP निवेश)

सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान अर्थात एक निश्चित समय में इन्वेंस्टमेंट होता  है जैसे एक महीने, दो महीनें , चार महीने  आदि |

अगर आपकी कमाई कम भी है तो आप इस सिस्टम के द्वारा निवेश कर सकते है |

SIP Investment करने के लिए आपको बहुत बड़ी पूंजी की आवश्यकता नही होती है आप 100 रूपये की बचत से अपना SIP investment शुरु कर सकते है लेकिन कई म्यूच्यूअल फंड्स में आपको 500 से शुरु करना होता है |

LumpSum Investment (लम सम निवेश)

जैसा की आपने जाना कि SIP Investment करने के लिए आपको बहुत बड़ी पूंजी की आवश्यकता नही होती है लेकिन जब आप लम्प सम निवेश में आपके पास बड़ी पूंजी का होना आवश्यक है |
जैसेः एक लाख , दो लाख , तीन लाख या इससे ज्यादा आदि |

आसान शब्दों में : जब आपके पास एकमुश्त एक लाख , दो लाख , तीन लाख या इससे ज्यादा की राशि हो तो आप  लम्प सम निवेश कर सकते  है |

ये हमारे FD (फिक्स्ड डिपॉजिट्स ) की तरह होता है जिसमे एक साथ व एकमुश्त पैसा जमा कराना होता है |

Disadvantage of LumpSum Investment

  • एकमुश्त पैसो (एक लाख, दो लाख ) की जरुरत होती है |
  • बाजार गिरा तो आपका पैसा डूबने की सम्भावना ज्यादा है |

म्यूच्यूअल फण्ड क्या है | What is Mutual Funds in Hindi

म्यूच्यूअल फण्ड एनएवी क्या है | नेट एसेट वैल्यू काम कैसे करता है | Mutual Fund NAV in Hindi

रेगुलर म्यूच्यूअल फण्ड क्या है ?
डायरेक्ट म्यूच्यूअल फण्ड क्या है ?

म्युचुल फण्ड के कितने प्रकार है | Types of Mutual funds

इक्विटी फण्ड क्या है | इक्विटी फण्ड के प्रकार | Equity Mutual Funds in Hindi
डेट फण्ड क्या है | डेट फण्ड के प्रकार | Debt Mutual Funds in Hindi
हाइब्रिड फण्ड क्या है | हाइब्रिड फण्ड के प्रकार | Hybrid Mutual Funds in Hindi

स्मालकैप फण्ड में क्या खास है | निवेश से पहले इन बातों का रखें ध्यान | Small Cap Mutual Funds in Hindi
लार्ज कैप फण्ड क्या है | निवेशकों के लिए क्यों है फायदेमंद | Large Cap Mutual Funds in Hindi
मल्टी कैप फण्ड क्या है | क्या आपको निवेश करना चाहिए | Multi Cap Funds in Hindi


क्या है इंडेक्स फण्ड | क्या आपको निवेश करना चाहिए | Index Funds in Hindi
एक्सचेंज ट्रेडेड फण्ड (ईटीएफ ) क्या होता है | Exchange Traded Fund (ETF) in Hindi
इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम क्या है | Equity Linked Savings Scheme (ELSS) in Hindi

SIP या Lumpsum बेहतर रिटर्न किसमे मिलता है?

शेयर बाजार क्या है | Share Market in Hindi
शेयर बाजार में निवेश कैसे करें | Share Market me Nivesh Kaise Kare

जानिये म्युचुअल फण्ड को आसान भाषा में | म्यूच्यूअल फण्ड कैसे काम करता है | Mutual Fund in Hindi

Mutual Fund in Hindi: क्या आप  जानते है म्युचुअल फंड  क्या है ?(What is Mutual Fund) और Mutual Funds काम कैसे करता है ? और म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश करने से निवेशको को क्या फायदा है ?

mutual fund in hindi

म्युचुअल फण्ड क्या है? (Mutual fund Hindi)

 Mutual Fund निवेश का एक बेहतर माध्यम है जिसमे निवेश करके अच्छा रिटर्न कमाया जा सकता है |

Mutual Fund का अर्थ है -लोगों से एकत्रित किया हुआ बहुत सारा पैसा है जिसे निवेश करने के लिए लोगों से, लोगों के फायदे के लिए कलेक्ट किया जाता है |

इसमें लोगों को सामूहिक रूप से फायदा होता है | म्युचुअल फंड को इस इंडस्ट्री के एक्सपर्ट फण्ड मैनेजर द्वारा मैनेज किया जाता है क्योंकि इसमें सभी का पैसा लगा होता है |

म्युचुअल फंड की एक बहुत महत्वपूर्ण बात जो आपको याद रखनी चाहिए वह यह है कि  म्युचुअल फंड एक डाइवर्सिफाइड इन्वेस्टमेंट होता है यंहा पर डाइवर्सिफाइड का मतलब बेहतर व नियमित लाभ के लिए फंड मैनेजर अलग अलग सेक्टर्स व इंडस्ट्री में निवेश करती है | जैसेः शेयर मार्केट , गवर्नमेंट बांड  व कॉर्पोरेट बांड आदि |

इस बात का ध्यान रखे कि म्युचुअल फंड मैनेजर आपके बताये गये ऑब्जेक्टिव व शर्त के अनुसार ही निवेश करता है इसलिए एक बेहतर mutual funds को चुन कर निवेश करे जो आपको ज्यादा लाभ दे सकता है |

उदाहारण:

मान लीजिये म्यूच्यूअल फण्ड एक क्रिकेट टीम है, क्रिकेट टीम में 11 प्लेयर होते है, लेकिन म्यूच्यूअल फण्ड फण्ड में 11 से ज्यादा कंपनिया हो सकती है|

अब अगर क्रिकेट में दो बैट्समैन जल्दी आउट हो जाते है तो बाद के 4-5 बैट्समैन पारी को अच्छे से सँभालते है तो मैच जीत जाते है |

ठीक उसी प्रकार,म्यूच्यूअल फण्ड मे यदि 3 कम्पनी से आपको फायदा नही होता है तो 8-10 कम्पनियां मिलकर आपको फायदा दिला देती है |

Mutual Fund कैसे काम करता है ?

Mutual Fund के प्रकार अलग अलग है पर सभी म्युचुअल फंड Unit Investment System पर आधारित है मतलब जब कोई निवेशक म्युचुअल फंड में इन्वेस्ट करता है तो उसे पैसे के बदले Mutual Fund Unit दिया जाता है |

उन निवेशको को जो म्युचुअल फंड में निवेश करते है उन्हें Mutual Fund Unit Holder भी कहते है |

प्रत्येक Mutual Fund Unit का मूल्य होता है जो समय के साथ या रोजाना बदलते रहता है | यह यूनिट प्राइस (Unit Price) कहलाता है |

यह यूनिट प्राइस (Unit Price) अधिक होने पर निवेशक को लाभ व कम होने पर हानि होता है | जब Mutual Funds इन्वेस्टमेंट से लाभ होता है तो उस लाभ को ये म्युचुअल फंड मैनेजर निवेशकों में उनके निवेश या Mutual Fund Unit के आधार पर बाँट देते है |

Mutual Fund के लाभ

  • Mutual Fund से आपके जेब पर भार नही पड़ता है क्योंकि आप इसमें SIP Investment कर सकते है |
  • आप वित्त या फाइनेंस के बारे में सीखना नही चाहते है या आपके पास वक्त कि कमी है |
  • बचत बैंक से ज्यादा ब्याज या रिटर्न कमाना चाहते है |
  • एक बेहतर विकल्प है, यदि आपके पास बहुत कम पैसा है लेकिन आपको निवेश करना है तो आप 100, 500 रूपये से शुरु कर सकते है|
  • लम्बी अवधि में कम्पौन्डिंग का लाभ मिलता है |


म्यूच्यूअल फण्ड क्या है | What is Mutual Funds in Hindi

म्यूच्यूअल फण्ड एनएवी क्या है | नेट एसेट वैल्यू काम कैसे करता है | Mutual Fund NAV in Hindi

रेगुलर म्यूच्यूअल फण्ड क्या है ?
डायरेक्ट म्यूच्यूअल फण्ड क्या है ?

म्युचुल फण्ड के कितने प्रकार है | Types of Mutual funds

इक्विटी फण्ड क्या है | इक्विटी फण्ड के प्रकार | Equity Mutual Funds in Hindi
डेट फण्ड क्या है | डेट फण्ड के प्रकार | Debt Mutual Funds in Hindi
हाइब्रिड फण्ड क्या है | हाइब्रिड फण्ड के प्रकार | Hybrid Mutual Funds in Hindi

स्मालकैप फण्ड में क्या खास है | निवेश से पहले इन बातों का रखें ध्यान | Small Cap Mutual Funds in Hindi
लार्ज कैप फण्ड क्या है | निवेशकों के लिए क्यों है फायदेमंद | Large Cap Mutual Funds in Hindi
मल्टी कैप फण्ड क्या है | क्या आपको निवेश करना चाहिए | Multi Cap Funds in Hindi


क्या है इंडेक्स फण्ड | क्या आपको निवेश करना चाहिए | Index Funds in Hindi
एक्सचेंज ट्रेडेड फण्ड (ईटीएफ ) क्या होता है | Exchange Traded Fund (ETF) in Hindi
इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम क्या है | Equity Linked Savings Scheme (ELSS) in Hindi

SIP या Lumpsum बेहतर रिटर्न किसमे मिलता है?

शेयर बाजार क्या है | Share Market in Hindi
शेयर बाजार में निवेश कैसे करें | Share Market me Nivesh Kaise Kare

Mutual Funds: What is Mutual Fund & Types of Mutual Funds In India?

What are Mutual Funds

What are Mutual Funds?

Mutual Funds are very popular or the best investment idea for those who don't want to learn about Investing in the Stock market.

the option is to invest your money is in "Mutual Funds".

Mutual funds are managed by the professionals' fund manager.

mutual funds are managed collectively to gain the highest possible returns.

Why Mutual funds?

if you want financial freedom

if you want to earn higher returns than bank deposits

if you want to be wealthy

if you want to earn huge money

if you want to be prosperous

if you don't want to learn about the stock market

Professional fund manager manages funds.

Flexibility to invest and withdraw.

Types of mutual funds

mutual funds are categorized into three types based on the risk-taking capability of investors.

  • Debt funds
  • Equity funds
  • Balanced funds
for possible higher returns in mutual funds, you should be a long-term investor.

Debt Funds:


Debt fund is less risky than equity funds. the fund manager invests the money in bonds or government securities.

it is suitable for people who don't want to take the risk.

Equity Funds:

Fund manager invest collected funds of investors into the companies share so when the share price goes up investors make a profit 

or if the price goes down investor losses money.

Balanced Funds:


A balanced fund is the combination of the Debt fund and Equity fund.

to maintain the risk and profitability a fund manager invests fund on both Equity and Debt fund.